मालदीव को एक सूत्र में जोड़ने के लिये चीन ने बनाया पुल

2017-04-25 13:23:02

 

मालदीव दुनिया में एक मशहूर पर्यटक स्थल है, जहां पर सफेद रेत वाला समुद्र तट बहुत साफ है, हरा समुद्री पानी और गहरा नीला आकाश आपस में मिलकर बहुत सुन्दर दृष्य बनाते हैं। अद्वितीय प्राकृतिक परिस्थितियों से मालदीव में पर्यटन उद्योग का तेज़ विकास हो रहा है, जिससे हिंद महासागर में इस छोटे से देश की प्रति व्यक्ति जीडीपी दक्षिण एशियाई देशों में सबसे ज्यादा है। लेकिन छोटे छोटे द्वीपों से बने इस देश को आपस में जोड़ना बहुत कठिन है, और ये मालदीव के विकास में सबसे बड़ी अड़चन है। चीन की मदद से बने चीन-मालदीव मित्रता पुल का काम खत्म होने के साथ साथ इसे जोड़ने में बड़ा सुधार हुआ है।

   14 सितंबर 2014 को चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मालदीव यात्रा के दौरान मालदीव के राष्ट्रपति से वार्ता करते समय कहा था कि चीन माले-हवाई अड्डा समुद्रपारीय पुल के निर्माण में मदद देगा। इसके साथ ही इस पुल का नाम चीन-मालदीव मैत्री पुल रखा गया। इस पुल के निर्माण से चीन और मालदीव के बीच बुनियादी संरचनाओं का सहयोग आगे बढ़ेगा। मालदीव स्थित चीनी दूतावास के अस्थायी प्रभारी यांग यिन ने कहा कि मैत्री पुल परियोजना भविष्य में मालदीव के विकास के लिए बहुत ज़रूरी है।

   यांग यिन ने कहा कि मालदीव की प्रति व्यक्ति जीडीपी दक्षिण एशियाई देशों में सबसे ऊंची है। मालदीव चीन द्वारा प्रस्तुत "एक पट्टी एक मार्ग"  प्रस्ताव का सक्रीय रूप से जवाब दे रहा है। अब चीन और मालदीव के बीच व्यवहारिक सहयोग में प्रमुख रूप से बड़ी परियोजनाएं अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है, जिनमें मैत्री पुल परियोजना एक प्रमुख बड़ी परियोजना है। इसके अलावा हवाई अड्डा बनाने और रिहाइश के लिये मकान बनाने की भी परियोजनाएं हैं। मैत्री पुल परियोजना मालदीव के सामाजिक और आर्थिक विकास की बहुत बड़ी भूमिका निभाएगी।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी