श्याओ कांग गांव के कृषि विकास का नया रास्ता

2018-12-03 16:31:09

चीन के ग्रामीण क्षेत्रों में सुधार दक्षिणी चीन के एन ह्वी प्रांत के फेंग यांग कस्बे के श्याओ कांग गांव से शुरू हुआ है। वर्ष 1978 के नवंबर में श्यांग कांग गांव में रहने वाले 18 परिवार के किसानों ने परिवार से अनुबंध की जिम्मेदारी व्यवस्था लागू करने के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए थे, जिससे पारिवारिक अनुबंध जिम्मेदारी व्यवस्था चीन में शुरू हुई थी। इस तरह श्याओ कांग गांव चीन के ग्रामीण क्षेत्रों के सुधार का एक प्रतीक बन गया। इस वर्ष चीन के सुधार और खुलेपन की नीति लागू करने की 40वीं वर्षगांठ है। श्याओ कांग गांव के किसान इस भूमि पर विकास के नए रास्ते की खोज कर रहे हैं।

दो वर्ष पहले श्याओ कांग गाव ने चावल के खेतों में बतख, झींगे और केकड़ों के पालन करने की व्यवस्था बनाने जैसे आधुनिक पारिस्थितिकीय कृषि परियोजना लागू करने के लिए एन ह्वी प्रांत के प्रौद्योगिकी संस्थान के साथ सहयोग शुरू किया। श्याओ कांग गांव में रहने वाली महीला चेंग यून 5 हेक्टेयर बड़ी उच्च मानक कृषि भूमि पर बतख और केकड़ों के पालन क्षेत्र में काम करती है। पहले वो 2 हेक्टेयर बड़ी भूमि पर चावल रोपण करती थी। अब वह 2 हेक्टेयर बड़ी भूमि हस्तांतरण करते हुए आधुनिक पारिस्थितिकीय कृषि परियोजना चलाती है। उसने कहा कि अब यह काम पहले से आसान है और आय भी बढ़ रही है।

चेंग यून के पति आसपास के खनन संयंत्र में काम करते हैं। एक वर्ष उसके परिवार को 30 हजार युआन की आय मिल जाती है। यह श्याओ कांग गांव का मध्यम स्तर है।

अब श्याओ कांग गांव में रहने वाले किसानों का जीवन पहले से बेहतर है। यह पुरानी पीढ़ी के एक साहसी नवाचार का परिणाम है। पिछली शताब्दी के 7वें दशक में यह गांव बहुत गरीब हुआ करता था। उस समय भूख एक आम स्थिति थी। 1978 के नवंबर में पुराने उत्पादन दल के नेता और उपनेता ने 18 परिवारों का नेतृत्व करते हुए परिवार से अनुबंध की जिम्मेदारी व्यवस्था लागू करने के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए थे। 1982 ग्रामीण कार्य से संबंधित चीन का पहला नंबर एक दस्तावेज आधिकारिक तौर पर जारी किया गया था, जिससे परिवार से अनुबंध की जिम्मेदारी व्यवस्था लागू करने की पुष्टि की गई थी। इसका विषय है कि किसान पारिवारिक इकाई से सामूहिक आर्थिक संगठनों को भूमि जैसे उत्पादन सामग्री और उत्पादन कार्य का अनुबंध कर सकता था। यह व्यवस्था पूरी तरह से चीन में लागू की गई थी। जिससे चीन के 80 करोड़ किसानों ने सक्रिय रूप से खेती में अनाज उगाया था। चीन का अनाज उत्पादन प्रतिवर्ष बढ़ता चला गया। श्याओं कांग गांव के किसानों ने उस समय से कुपोषण और भूख के जीवन से छुटकारा पाया।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी