चाओज़ी ( डम्पलिंग)

2017-01-26 09:03:57

चाओज़ी ( डम्पलिंग)

उत्तरी चीन में वर्ष के अंतिम रात्रि भोज में चाओज़ी खाने की परम्परा है, लेकिन विभिन्न स्थलों में चाओज़ी खाने की प्रथा भिन्न भिन्न है। कुछ स्थलों में नव वर्ष की पूर्व संध्या में चाओज़ी खाया जाता है, जबकि कुछ स्थलों में नव वर्ष के प्रथम दिन चाओज़ी खाया जाता है। उत्तरी चीन के कुछ पहाड़ी क्षेत्रों में नव वर्ष के पहले पांच दिनों में हर सुबह चाओज़ी खाने की प्रथा भी प्रचलित है।

साल के अंतिम दिन की रात को मिलन रात्रि कहलाता है। लोग दूर दूर से घर लौटकर परिवार के सभी सदस्यों के साथ मिलकर चाओज़ी बनाते हैं और नया साल की खुशी मनाते हैं। चाओज़ी बनाने के लिए सब से पहले गूंधे हुए आटे के पतले लोई बनाये जाते हैं, फिर उस में भराई भरी जाती है। भराई नाना किस्मों की होती है, विभिन्न प्रकार के मांस, अंडा, सी फ़ूड एवं सब्जियां सब भरवां के लिए बनाए जा सकते हैं। आम तौर पर लोग पानी में उबालकर चाओज़ी पकाते हैं, फिर सिरका, लहसुन, तिल के तेल एवं सोयासोस के साथ खाते हैं। इस के अतिरिक्त चाओज़ी को तेल में फ़्राइड करके भी पकाये जाते हैं। चूंकि“ह म्येन”(आटा गूंथना) में“ह”का अर्थ है“मिलाना”है, “चाओ”का उच्चारण चीनी शब्द जोड़ने के बराबर है, इसलिए चाओज़ी शब्द से मिलन एवं सुख की अभिव्यक्ति होती है, जो बहुत सौभाग्य माना जाता है। और तो और चाओज़ी का बाहरी आकार स्वर्ण गोलक की भांति है, इसलिए नव वर्ष के अवसर पर चाओज़ी खाने का और एक अर्थ है कि धन देवता धनदौलत घर लाए। नव वर्ष के समय परिवार के सभी लोग एकत्र होकर चाओज़ी बनाते खाते हैं और नए साल के कामकाज के बारे में गपशप करते हैं, जिससे घर परिवार में बहुत मेलमिलाप और आत्मीयता का माहौल बन जाता है।


कैलेंडर

न्यूज़:
व्यापार पर्यटन फ़ैशन खेल एक्सपर्ट राय
व्यापार:
ख़बर व्यक्ति चीन का मार्किट चीन में निवेश
पर्यटन:
चीन की सैर पर्यटन जानकारी लोकप्रिय फोटो भारत दर्पण बलॉग चीनी भाषा सीखें
बाल-महिला स्पेशल
विश्व का आईना
चीनी भाषा सीखें:
वीडियो वीडियो
फोटो गैलरी:
चीन भारत दुनिया पर्यटन फ़ैशन शो