दुबेई में रेगिस्तान समुद्री अनाज उगाना सफल रहा

2018-08-29 10:03:01

दुबेई में रेगिस्तान समुद्री अनाज उगाना सफल रहा

22 अगस्त को छिंगताओ समुद्री अनाज अनुसंधान केंद्र से खुश खबर मिली है कि चीनी इंजनीरिंग अकादमी के अनुसंधानकर्ता युआन लोंगफिंग की टीम ने 2018 के 8 जनवरी को दुबेई में समुद्री अनाज उगाने की कोशिश की। मई से जुलाई माह तक समुद्री अनाज समेत 80 से ज्यादा किस्मों की अनाज किस्में पक्का होने लगीं। अंतर्राष्ट्रीय धान संस्था, भारत, मिस्र, संयुक्त अरब अमीरात और चीन से आए पाँच विशेषज्ञों से गठित एक दल ने पक्का हुए अनाज की जांच की और पता चलाया कि हर हैक्तर में ये अनाज विश्व के औसत उत्पादन से ज्यादा होता है। यह इस बात का द्योतक है कि युआन लोंगफिंग की समुद्री अनाज की टीम द्वारा दुबेई रेगिस्तान में किये गये परीक्षण में सफलता मिली है।

परिचय के मुताबिक रेगिस्तान में धान उगाने के लिए अनेक क्षेत्रों की अनेक चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। जिन में दिन-रात में तामपान का अति भारी बदलाव, भूमिगत नमकीन पानी, कम आर्द्रता, मीठा पानी की कमी, बालू का तूफ़ान आदि शामिल हैं। इन कठिनाइयों को दूर करने के लिए युआन लोंगफिंग की टीम को खारापन सहने वाले धान की किस्मों का प्रजनन किया और रेगिस्तानी भूमि का सुधार करने के लिए नयी तकनीक अपनायी।

दोनों पक्षों द्वारा हस्ताक्षरित हरे दुबेई सहयोग ढांचागत समझौते के मुताबिक समुद्री अनाज परियोजना की टीम दुबेई में परिक्षण और प्रसार की योजना करेगी। और 2020 से समुद्री अनाज उगाने के क्षेत्रफल का विस्तार करेगी, ताकि समुद्री अनाज दुबेई के 10 प्रतिशत के राष्ट्र जमीन पर फैला सकेंगे।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक दुबेई छिंगताओ समुद्री धान अनुसंधान केंद्र के साथ सहयोग रूप से युआन लोंगफिंग मध्य-पूर्व और उत्तरी अफ्रीका समुद्री धान अनुसंधान और प्रसार केंद्र की स्थापना करेगा। दुबई मध्य-पूर्व और उत्तर अफ्रीकी क्षेत्रों के देशों के लिए धान की किस्मों का परीक्षण करने, तकनीक प्रशिक्षण करने और औद्योगिकीकरण का प्रसार का मिशन निभाएगा।

 

 

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी