क्यूरेटर पुल की स्थापना करते हैं कलाकारों और दर्शकों के बीच

2018-10-30 10:06:01

90 के दशक में चीनी कला जगत में क्यूरेटर नजर आने लगे। क्यूरेटरों का पैदा होना इस बात का द्योतक है कि चीन में प्रदर्शनी उद्योग में सुधार हो गया है। चीन में कला रचना में नयी जीवित शक्ति दिखायी गयी है। फान दीआन के अनुसार,“जब क्यूरेटर एक थीम प्रस्तुत करता है, तो इस बात का द्योतक है कि कला रचना पर उन्होंने अपना रुख ले लिया है। क्यूरेटर की मेहनत से चीन में विविधतापूर्ण प्रदर्शनियां होने लगी।”

बीते बीस सालों में चीन में प्रदर्शनी उद्योग के निरंतर विकास होने के नाते क्यूरेटरों को भी दर्शकों की मान्यता मिली है। दर्शक श्वेई ने कहा,“मुझे लगता है कि एक प्रदर्शनी की सफलता या असफलता कार्य खुद पर निर्भर है। लेकिन प्रदर्शनी की रचना भी अति महत्वपूर्ण है। इसलिए क्यूरेटर इस अहम भूमिका निभाते हैं। मिसाल के लिए, किस तरह के काम चुनने हैं, किस तरह के स्थान पर प्रदर्शनी करनी है, कैसा लेआउट करना है इत्यादि। ये सब प्रदर्शनी के प्रति दर्शकों के अनुभव पर असर डालते हैं। मुझे लगता है कि एक श्रेष्ठ क्यूरेटर बनने के लिए अनेक क्षमताओं की जरूरत होती है।”  

क्यूरेटर कलाकारों और दर्शकों को जोड़ने वाला पुल है। दस साल तक एक क्यूरेटर होने के नाते यांग श्याओपो ने न सिर्फ चीन में प्रदर्शनी व्यवसाय के निरंतर परिपक्व होने को देखा है, साथ ही उन्हें चीनी दर्शकों की प्रगति का भी अहसास किया है। उन के मुताबिक,“आज स्थिति में सचमुच परिवर्तन आय चुका है। कलेक्टरों की गुणवत्ता में उन्नति आयी है। वे न केवल भविष्य में कलाकृतियों के दाम में बढ़ोतरी की वजह से कलाकृतियों को चुनते हैं। बल्कि अपनी पसंद के मुताबिक कलाकृतियों को खरीदते हैं।”

21वीं शताब्दी के चीन में क्यूरेटर सांस्कृतिक क्षेत्र में एक अनिवार्य हिस्सा बन चुका है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी