साइबर आतंकवाद का मुकाबला करें : अरब देशों के दूत

2017-12-05 21:21:02

मोहम्मद अल-शाफी सीआरआई संवाददाता को इन्टरव्यू देते हुए

चौथे विश्व इंटरनेट सम्मेलन में भाग ले रहे कुछ अरबी देशों के राजनयिक दूतों ने हमारे संवाददाता से बातचीत के दौरान कहा कि साइबर आतंकवाद का साथ-साथ मुकाबला किया जाना चाहिये ताकि इंटरनेट के विकास से विभिन्न देशों के बीच लिंक बनाया जाए।

मिस्र के चीन स्थित राजदूत मोहम्मद ओसामा ताहा एल मजडूब ने कहा कि इंटरनेट के विकास के चलते मौका तैयार करने के साथ-साथ आतंकवाद और उग्रवाद के प्रसार को भी बढ़ा दिया गया है। इन समस्याओं को दूर करने के लिए विभिन्न सरकारों और जनता के बीच घनिष्ठ सहयोग की जरूरत है, ताकि इंटरनेट के नकारात्मक प्रभाव को हटाया जाए। इसी उद्देश्य के लिए एकीकृत कार्यक्रम और मापदंड बनाना चाहिये।

अरब लीग के चीन स्थित प्रतिनिधि मोहम्मद अल-शाफी ने कहा कि इंटरनेट में विश्व के भावी विकास की प्रमुख गुंजाइश मौजूद है। लेकिन इंटरनेट के विकास से आतंकवाद के प्रसार के लिए भी सुविधाएं तैयार की गयी हैं। वर्तमान में चीन इंटरनेट के जरिये इलेक्ट्रॉनिक सिल्क रोड का निर्माण कर रहा है, आशा है कि अरब देश चीन के साथ सहयोग कर इसमें भाग ले सकेंगे।

चौथे विश्व इंटरनेट सम्मेलन का आयोजन 3 से 5 दिसंबर तक दक्षिणी चीन के चच्यांग प्रांत के वूचेन शहर में हुआ।

( हूमिन )

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी