भारत की ओर देखते चीनी स्टार्टअप, निवेशक

2018-08-28 10:15:05

भारत की ओर देखते चीनी स्टार्टअप, निवेशक

मंगलवार को पेइचिंग में एक उद्यमिता मंच में विशेषज्ञों ने कहा कि भारत अब एक महत्वपूर्ण स्टार्टअप गंतव्य है, और यहां तक कि छोटे और मध्यम आकार के चीनी उद्यम, उद्यम पूंजी फर्म और निवेशक इस ओर देख रहे हैं और स्थानीय अंतर्दृष्टि तालाश रहे हैं।

भारत में किस प्रकार के चीनी स्टार्टअप योजनाएं भारत में सफल हो सकती हैं, जैसे मुद्दों पर आधारित यह कार्यक्रम गुगल-समर्थित स्टार्टअप ग्रांइड द्वारा आयोजित किया गया। यह दुनिया की सबसे बड़ी स्टार्टअप समुदाय है, जो 115 देशों में 365 से अधिक शहरों में 1.5 मिलियन उद्यमियों को शिक्षित और जोड़ता है।

साल 2015 में 400 मिलियन अमेरिकी डॉलर में खरीदे गये फ्रीचार्ज ऐप के संस्थापक और एक निरंतर नवप्रवर्तक उद्यमी कुणाल शाह ने कहा कि चीनी निवेशकों और प्रासंगिक उत्पादों एवं सेवाओं के साथ स्टार्टअप को भारत में विस्तार करने पर विचार करना चाहिए।

उपभोक्ता इंटरनेट और शैक्षणिक प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में फर्मों में सेक्वॉया पूंजी के प्रारंभिक चरण के निवेश की देखरेख करने वाले प्रतीक शर्मा ने कहा कि सीमा-पार स्टार्टअप स्थापित करने का समय आ चुका है, जो चीन और भारत के दो विशाल बाजारों में सेवा दे सकें।

विशेषज्ञों ने कहा कि बड़े पैमाने पर शेयर करने वाले ऐप लोकप्रिय हैं, लेकिन सांस्कृतिक अंतर की वजह से फूड डिलिवरी और लाइव स्ट्रीमिंग वाले ऐप भारत नहीं गए, जबकि चीन में बहुत अच्छा कर रहे हैं। आवाज-संचालित खोज और "कैसे करें" सामग्री की भारत में उज्ज्वल संभावनाओं को देखने की संभावना है।

उन्होंने उन सबक को रेखांकित किया, जो वीचैट और अलीबाबा-समर्थित यूसी इंटरनेट ब्राउज़र की विफलता से सीखे जा सकते हैं। चीन में करीब 1 बिलियन उपयोगकर्ता वाले वीचैट का भारतीय बाजार में व्हाट्सएप और हाइक से जबरदस्त मुकाबला है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी