टिप्पणीः ह्वावेई जैसी कंपनी को खारिज करने का कोई आधार नहीं

2018-08-30 17:05:01

टिप्पणीः ह्वावेई जैसी कंपनी को खारिज करने का कोई आधार नहीं

विश्व टेलिकॉम तकनीक विकास पर ध्यान देने वाले लोगों से यदि हम पूछें कि विश्व में किस कंपनी की सबसे ज्यादा जांच की जाती है, और किस पर सबसे अधिक हमला किया जाता है? तो स्वाभाविक तौर पर लोग चीन की ह्वावेई कंपनी का नाम लेंगे। हाल में ऑस्ट्रेलिया सरकार ने एक वक्तव्य में साइबर सुरक्षा के बहाने से ह्वावेई के ऑस्ट्रेलियाई 5जी इंटरनेट निर्माण में भाग लेने पर पाबंदी लगायी। जिससे ऑस्ट्रेलिया में ह्वावेई कंपनी के व्यवसाय में बाधा पहुंची है।

साइबर सुरक्षा पर सभी इंटरनेट यूसर्ज बड़ा ध्यान देते हैं, साथ ही वह सभी देशों का प्रमुख मुद्दा भी है। लेकिन इसको लेकर कोई बहाना नहीं बनाया जा सकता है। ऑस्ट्रेलिया द्वारा ह्वावेई कंपनी के 5जी इंटरनेट निर्माण में भाग लेने पर पाबंदी लगाने में साइबर सुरक्षा की वजह बताने का कोई आधार नहीं है।

पहला, सहयोग के स्तर पर देखा जाए कि खुली सामग्री के मुताबिक विश्व के सबसे बड़े टेलिकॉम उपकरणों की सप्लाई कंपनी होने के नाते ह्वावेई कंपनी ने विश्व की 50 प्रमुख टेलिकॉम प्रचालन कंपनियों में 45 के साथ सहयोग किया है। जिनका व्यापार 170 देशों में फैला है, जो विश्व के एक तिहाई से ज्यादा आबादी की दैनिक दूरसंचार की मांग को पूरा करती है। यदि ह्वावेई सुरक्षित नहीं, तो विश्व के टेलिकॉम दिग्गज ह्वावेई कंपनी से सहयोग नहीं करेंगे। ह्वावेई द्वारा जारी खबर के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया के दूरसंचार ऑपरेटर पिछले 15 साल से ह्वावेई कंपनी के उपकरणों का इस्तेमाल कर रहे थे। इस बीच ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने वाली कोई घटना सामने नहीं आयी। साथ ही ह्वावेई कंपनी को भी ऑस्ट्रेलिया सरकार से कोई चेतावनी नहीं मिली थी।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी