चीन-आसियान सामरिक साझेदारी संबंध स्थापना की 15वीं वर्षगांठ पर चीन और सिंगापुर ने एक दूसरे को बधाई संदेश भेजे

2018-10-09 11:41:01

चीन-आसियान सामरिक साझेदारी संबंध स्थापना की 15वीं वर्षगांठ पर चीन और सिंगापुर ने एक दूसरे को बधाई संदेश भेजे

8 अक्तूबर को चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग और आसियान के वर्तमान अध्यक्ष देश सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली श्येनलूंग ने एक दूसरे को बधाई संदेश भेजकर चीन-आसियान सामरिक साझेदारी संबंध स्थापना की 15वीं वर्षगांठ मनायी।

अपने बधाई संदेश में ली खछ्यांग ने कहा कि 2003 में चीन दक्षिण पूर्व एशियाई मैत्रीपूर्ण सहयोग संधि में शामिल हुआ और आसियान के साथ सामरिक साझेदारी संबंध स्थापना करने वाला पहला देश बना। पिछले 15 सालों में चीन और आसियान देशों के उभय प्रयास में दोनों पक्षों के संबंधों का स्वस्थ व स्थिर विकास बरकरार है। दोनों के बीच राजनीतिक आपसी विश्वास निरंतर प्रगाढ़ हो रहा है, आर्थिक व व्यापारिक संपर्क दिन ब दिन घनिष्ट होता रहा है। आपसी लाभ वाले सहयोग में प्रचुर उपलब्धियां हासिल हुई हैं और सांस्कृतिक आदान प्रदान ओतप्रोत है। चीन-आसियान संबंधों के विकास ने दोनों पक्षों की जनता को यथार्थ लाभ दिया है और क्षेत्रीय यहां तक विश्व की शांति, स्थिरता व समृद्धि को आगे बढ़ाया है। चीन आसियान के साथ शांति का सहनिर्माण करेगा और और उच्च स्तर वाले सामरिक साझेदारी संबंधों का निर्माण करेगा।

ली श्येनलूंग ने बधाई संदेश में कहा कि आसियान-चीन सामरिक साझेदारी संबंध मजबूत और यथार्थ हैं, जो एक दूसरे के लिए हितकारी हैं। पिछले 15 सालों में दोनों पक्षों ने राजनीतिक सुरक्षा, अर्थतंत्र व व्यापार, समाज व संस्कृति आदि तीन प्रमुख स्तंभों के आधार पर विस्तृत रूप से सहयोग किया है। आसियान चीन के साथ आपसी संपर्क के स्तर को उन्नत करना चाहता है और आसियान के आपसी संपर्क व्यापक कार्यक्रम 2025 के एक पट्टी एक मार्ग पहल को जोड़ने पर जोर देगा। आसियान आशा करता है कि 21वें शिखर सम्मेलन में आसियान-चीन सामरिक साझेदारी संबंधों का 2030 विजन पारित हो सकेगा। ताकि द्विपक्षीय संबंधों के भावी विकास को सामरिक दिशा दी जा सके।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी