टिप्पणी:चीनी राष्ट्रपति यूरोप और लातीन अमेरिका की यात्रा करेंगे

2018-11-23 17:32:00

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग 27 नवम्बर से स्पेन, अर्जेंटीना, पानामा और पुर्तगाल की यात्रा करेंगे और ब्यूनस आयर्स में आयोजित होने वाले जी 20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे।

वर्ष 2018 में भू-मंडलीकरण का विरोध, एकतरफावाद और संरक्षणवाद का रूझान नजर आ रहा है। इस साल चीनी नेताओं ने विदेशों की बार-बार यात्राएं करने से इस बात को स्पष्ट किया है कि चीन विश्व शासन के लिए अपनी अथक कोशिश कर रहा है। आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2014 में चीन के यीवू शहर से यूरोप के मैड्रिड तक जाने वाली रेल सेवा शुरू हुई। वर्ष 2017 में सिर्फ इसी रेल सेवा से स्पेन से यीवू शहर तक निर्यात रकम एक करोड़ अमेरिकी डालर तक जा पहुंची। यीवू और विश्व के 219 देशों व क्षेत्रों के बीच व्यापारिक आवाजाही बनी हुई है। हर साल 8 लाख विदेशी व्यापारी यीवू का दौरा करते हैं और इस शहर में स्थित विदेशी खरीदारों की संख्या भी डेढ़ हजार तक जा पहुंची है। अर्जेंटीणा के बीफ का आधा भाग चीन में निर्यात किया जाता है। अनुमान है कि भविष्य में अर्जेंटीणा हर साल चीन को एक अरब अमेरिकी डालर बीफ निर्यात करेगा। उधर पानामा के उप विदेश मंत्री के अनुसार पानामा भी चीनी मालों के लातीन अमेरिका में निर्यात का द्वार और पुल बनना चाहता है। वर्ष 2011 में पुर्तगाल ऋण संकट से ग्रस्त रहा, तब चीनी कारोबारों ने पुर्तगाल में निवेश करना शुरू किया। अब तक चीन की तरफ से आये निवेश की मात्रा नौ अरब यूरो तक जा पहुंची है। और चीनी कारोबारों ने भी पुर्तगाल के उद्योगधंधों के साथ सहयोग कर संयुक्त रूप से तीसरे देशों में निवेश किया।

जी 20 शिखर सम्मेलन चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनोल्ड ट्रम्प के साथ वार्ता करेंगे। चीन और अमेरिका विश्व में दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं। दोनों देशों के नेताओं की बातचीत भी विश्व में ध्यानाकर्षक है। पर इतिहास से यह सिद्ध हुआ है कि चीन और अमेरिका के बीच सहयोग हो, तो उभय जीत होगी, नहीं तो दोनों को नुकसान पहुंचेगा। यह अपरिहार्य तथ्य है।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी