चीन में मानवाधिकार के संरक्षण में भारी प्रगतियां हासिल

2018-12-10 18:32:00

10 दिसंबर को विश्व मानवाधिकार दिवस होता है। इस मौके पर चीनी मानवाधिकार अनुसंधान संघ और चीनी मानवाधिकार विकास कोष द्वारा आयोजित एक बैठक में उपस्थित जनों ने कहा कि मानवाधिकार घोषणा पत्र के जारी होने के बीते 70 सालों में चीन के मानवाधिकार संरक्षण में भारी प्रगतियां हासिल हो चुकी हैं।

सन 1948 के 10 दिसंबर को विश्व मानवाधिकार घोषणा का प्रकाशन हुआ। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के प्रसारण विभाग के मंत्री ह्वांग क्वन मींग ने कहा कि बीते 70 सालों में चीन ने अपना रास्ता खोलकर मानवाधिकार संरक्षण के संदर्भ में भारी प्रगतियां हासिल की हैं। हम ने सर्वाधिक लोगों के जीवन अधिकार और विकास अधिकार की गारंटी की है। चीन में लोगों की औसत जीवन प्रत्याशा 35 साल से बढ़कर 76.7 साल तक जा पहुंची है। उधर जनसंख्या में निरक्षरता दर 80 प्रतिशत से 5 प्रतिशत तक जा गिरी है। रुपांतर और खुलेपन के इधर चालीस सालों में चीनियों की औसत आय भी 22.8 गुणा बढ़ी है, गरीब आबादी में भी 74 करोड़ की गिरावट हुई है। आज चीन के शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में मुफ्त शिक्षा व्यवस्था लागू की गयी है और विश्व में सबसे अधिक बड़ी सामाजिक बीमा प्रणाली भी कायम हो चुकी है।

चीनी मानवाधिकार अनुसंधान संघ के परिषद सदस्य चांग चैन ने कहा कि चीन विश्व मानवाधिकार घोषणा के मुताबिक अपनी स्थितियों के अनुकूल मानवाधिकार विकास रास्ता खोल दिया है। चीन के विचार में अस्तित्व अधिकार और विकास अधिकार सर्वप्रथम मानवाधिकार है। ऐसे अधिकारों के संरक्षण से दूसरे मानवाधिकार का संरक्षण किया जा सकता है। चीन विशेष समुह के लोगों के संरक्षण को महत्व देता है। उनमें खासकर अल्पसंख्यक जातियों, महिलाओं, बच्चों, बूढ़ों और अपाहिज़ों के मानवाधिकार के संरक्षण पर जोर दिया है। चीन के मानवाधिकार में व्यक्तिगत मानवाधिकार के अलावा सामूहिक मानवाधिकार भी शामिल है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी