सुधार और खुलेपन के चमत्कार भविष्य की व्याख्या- ब्रिटेन में चीनी राजदूत

2019-01-01 18:01:10

ब्रिटेन के स्थानीय समय के अनुसार 31 दिसम्बर को ब्रिटेन स्थित चीनी राजदूत ल्यू श्याओमिंग ने अख़बार“दैनिक टेलीग्राफ”की वैबसाइट और न्यूज़ पेपर में नामांकित लेख प्रकाशित कर चीन में सुधार और खुलेपन के चमत्कार भविष्य की व्याख्या की और चीन व ब्रिटेन के हाथ मिलाकर खुले विश्व अर्थतंत्र के निर्माण के महत्व पर प्रकाश डाला।

ल्यू श्याओमिंग ने अपने लेख में कहा कि 2018 चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू होने की 40वीं वर्षगांठ है। 40 वर्ष मानव जाति के लम्बे इतिहास में केवल क्षणभर का समय है। लेकिन पिछले 40 सालों में चीन ने शानदार अध्याय लिखे हैं, वह एक गरीब देश से विश्व में दूसरा बड़ा आर्थिक समुदाय बन चुका है। पहले चीनी नागरिक पेट भर पाना मुश्किल हुआ करता था, लेकिन अब देश में 74 करोड़ जनसंख्या गरीबी की दलदल से बाहर आ गई है। चीन ने विश्व में गरीबी उन्मुलन कार्य में 70 प्रतिशत का योगदान दिया है, जो कि चार पहलुओं का कारण है।

पहला, चीन अपने द्वार चुने गए रास्ते पर दृढ़ता के साथ आगे बढ़ता है। चीनी जनता चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में हमेशा चीनी विशेषता वाले समाजवादी रास्ते पर आगे बढ़ रही है। दूसरा, चीन सुधार और नवाचार करने में सक्रिय है। 40 सालों में चीन ने चीनी विशेषता वाली समाजवादी व्यवस्था को लगातार संपूर्ण करते हुए विकास के सामने मौजूद प्रणालीबद्ध बाधाओं को दूर किया और उत्पादन शक्ति की मुक्ति करके उसका विकास किया। तीसरा, चीन साहस के साथ प्रयास करता है। 40 सालों में चीन में जीडीपी की औसतन सालाना वृद्धि दर 9.5 प्रतिशत रही, जिसकी कुल मात्रा 120 खरब अमेरीकी डॉलर थी, जो कि 33.5 गुना बढ़ा है। सुधार और खुलेपन के शुरु में चीनी अर्थतंत्र विश्व का 1.8 प्रतिशत का अनुपात था, लेकिन साल 2017 तक यह अनुपात बढ़कर 15.2 प्रतिशत तक पहुंच गया। चौथा, चीन वैश्विक सहयोग करने में सक्रिय है। 40 सालों में चीन ने कुल 20 खरब डॉलर के विदेशी प्रत्यक्ष निवेश का प्रयोग किया और विदेशों में कुल 19 खरब डॉलर का निवेश किया। अब चीन 120 देशों और क्षेत्रों का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदारी बन चुका है, चीन ने विश्व अर्थतंत्र के लिए 30 प्रतिशत के अधिक योगदान दिया है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी