चीनी उद्यमों ने भारत में विदेशी भंडार खोला

2019-01-08 15:33:00

चीनी पूंजी वाले उद्यमों ने हाल ही में भारत में विदेशी भंडार की सेवा दी। जिससे द्विपक्षीय व्यापार में अंतिम एक किलोमीटर नामक समस्या का समाधान किया गया। इसे ज्यादा से ज्यादा चीनी व भारतीय ग्राहकों का स्वागत मिल रहा है। भारत में विदेशी भंडार की स्थापना से चीन के उत्पादों को भारत में प्रदर्शन व भंडारण का मौका मिल सका। साथ ही भारतीय व्यापारियों को भी घर के सामने थाओबाओ करने का मौका मिला।

परिचय के अनुसार भारत में विदेशी भंडार की स्थापना के बाद चीनी कंपनियों के उत्पादों की एक्सपोजर की दर स्पष्ट रूप से उन्नत हो गयी। साथ ही व्यापार के दोनों पक्ष सीधे से संपर्क रख सकते हैं। लागत की बचत के साथ बिक्री की वृद्धि भी प्राप्त हुई। हाल के कई वर्षों में दोनों पक्षों का आर्थिक व व्यापारिक आदान-प्रदान गहन हो रहा है। ज्यादा से ज्यादा चीनी उद्यम भारत में मौका ढूंढ़ने लगे। उधर ज्यादा से ज्यादा भारतीय उद्यम उच्छी गुणवत्ता वाले सस्ते चीनी उत्पादों को खरीदना और चीन से उन्नत उपकरण व तकनीक की आयात करना चाहते हैं। साथ ही विदेशी भंडार ने सीमा पार व्यापार में मौजूद भाषा की बाधा व सूचना के असंतुलन जैसी मुश्किलों को दूर किया।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी