ली ख्छ्यांग ने चीनी विकास उच्च स्तरीय फोरम 2019 वार्षिक अधिवेशन के प्रतिनिधियों से भेंट की

2019-03-26 11:42:00

चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने 25 मार्च को पेइचिंग में चीनी विकास उच्च स्तरीय फोरम 2019 वार्षिक अधिवेशन में उपस्थित विदेशी प्रतिनिधियों से भेंट की। विश्व की शीर्ष 500 कंपनियों के प्रमुख, विश्व प्रसिद्ध अनुसंधान संस्थानों के विशेषज्ञ तथा प्रमुख अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधियों समेत सौ से अधिक लोग मौके पर उपस्थित हुए।

डेमलर एजी, आईबीएम, बीएमडब्ल्यू समूह, फाइजर तथा रियो टिंटो ग्रुप आदि के प्रमुखों ने ली खछ्यांग के सामने अपने चिंतित मुद्दे रखे। ली ने जवाब देते हुए कहा कि चीनी अर्थव्यवस्था की स्थिरता बनी रहेगी। आर्थिक मंदी के दबाव के मुकाबले में चीन कर-वसुली व फीस की कटौती तथा नयी आर्थिक शक्तियों का विकास करने वाले कदम उठाएगा। चीन घाटे का विस्तार करने के बजाये आर्थिक रुपांतर व खुलेपन के माध्यम से बाजार जीवन शक्ति को और अधिक प्रोत्साहित करेगा। ली ने कहा कि चीन आज भी विश्व में सबसे बड़ा विकासमान देश है। बीते चालीस सालों में प्राप्त प्रगतियां रुपांतर और खुलेपन का परीणाम है। चीन का द्वार और अधिक तौर पर खोला जाएगा। चीन कानून की माध्यम से विदेशी निवेश का संरक्षण करेगा और प्रतिस्पर्धाओं में समानता और निष्पक्षता का सिद्धांत अपनाएगा।

ली खछ्यांग ने जोर देकर कहा कि मानव के सामने नये दौर की औद्योगिक और तकनीकी क्रांति उभरती रही है। हमें इस का समर्थन करना चाहिये और इस का बहिष्कार नहीं। चीन नवाचार गतिविधियों की निगरानी के प्रति समावेशी और सतर्क रुख अपनाता है और इसे स्वस्थ और नियमित तरीके से विकसित करेगा। चीन नई प्रौद्योगिकियों और नए उद्योग प्रारूपों के विकास को प्रोत्साहित करता है, ताकि नवाचार और विकास के लिए जगह बनाया जाए। चीन सरकार बौद्धिक संपदा संरक्षण को मजबूत करेगी, बौद्धिक संपदा उल्लंघन दंडात्मक क्षति प्रणाली स्थापित करेगी, प्रौद्योगिकी के जबरन हस्तांतरण की अनुमति नहीं देगी और बौद्धिक संपदा अधिकारों के उल्लंघन के मुकाबले में कोशिश करेगी।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी