सगोला गांव का खुशहाल जीवन

2017-10-16 15:28:02

तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की नींगची प्रिफेक्चर में स्थित सगोला गांव पहले अपने क्षेत्र में सबसे गरीब गांव बताया गया था । पर वर्ष 2012 के बाद इस गांव की कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्यों के नेतृत्व में गांववासियों ने पशुपालन और वृक्षारोपण के विकास से गरीबी को खत्म किया है । अब पूरे गांव के लोगों को खुशहाल जीवन प्राप्त हो गया है ।

सगोला गांव के गांववासियों ने गाना गाते हुए कहा कि मातृभूमि मेरे दिल में होता है । एकता के जरिये सब मुश्किलों को दूर किया जा सकेगा । वर्ष 2012 से पहले सगोला गांव के 36 परिवारों में दसेक परिवारों का जीवन मुश्किल था । वर्ष 2016 के जुलाई महीने तक इस गांव का गरीबी उन्मूलन लक्ष्य साकार किया गया । तब प्रति व्यक्ति के लिए आय 13280 युवान तक रहा । गांववासियों का कहना है कि गांव का परिवर्तन होने का श्रय पार्टी कमेटी के सचिव छियो त्सेरिंग तक जाता है । क्योंकि पार्टी कमेटी के नेतृत्व में ही गांववासियों ने पशुपालन और वृक्षारोपण के विकास से गरीबी को खत्म किया है । गांववासी पेंबा ने कहा,“हमारा यहां शहर से दूर रहता है । और हमारे यहां जंगल भी नहीं है, छूंगछाऔ जैसे विशेष उत्पाद भी नहीं है । पर पार्टी सचिव त्सेरिंग के नेतृत्व से हम ने अपने जीवन को बदल किया है । हम सब सचिव त्सेरिंग को आभार करते हैं ।”

छियो त्सेरिंग को सगोला गांव में सबसे सक्षम आदमी माना जाता है । वर्ष 2007 से उन्हों ने एक बस खरीदकर यातायात सर्विस शुरू किया था । वर्ष 2008 में उन्हें सगोला गांव का मुखिया निर्वाचित किया गया । एक साल बाद वे अपनी यातायात सर्विस को बन्द कर गांव के सामूहिक अर्थतंत्र के विकास में लगे हुए थे । अपने प्रयासों से त्सेरिंग को गांववासियों का विश्वास प्राप्त हुआ और वर्ष 2014 से उन्हों ने गांव में पार्टी कमेटी के सचिव का पद भी सँभाला ।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी