सानच्यांगयुवान के पारिस्थितिक रक्षक

2017-12-11 11:31:01

सानच्यांगयुवान के पारिस्थितिक रक्षक

सानच्यांगयुवान उत्तर पश्चिमी चीन के छींगहाई-तिब्बत पठार पर स्थित है जहां चीन की तीन प्रमुख नदियां यांगत्सी नदी, पीली नदी और लैनत्सांग नदी का स्रोत है । चीनी भाषा में “सानच्यांग” का मतलब है तीन नदियां और “युवान” स्रोत । इस क्षेत्र को सारी एशिया महाभूमि का वॉटर टॉवर माना जाता है, इसलिए इस क्षेत्र के प्राकृतिक वातावरण का संरक्षण करने का विशेष महत्व प्राप्त है ।

38 वर्षीय थाशी त्सेरिंग सानच्यांगयुवान प्राकृतिक वातावरण संरक्षण क्षेत्र के रक्षकों में से एक हैं । थाशी ने कहा कि वे पहले घासमैदान में पशुपालन का काम करते थे । संरक्षण क्षेत्र का रक्षक होने से उन्हें गौरव महसूस होता है । उन्हों ने कहा,“मुझे वर्ष 2013 से घासमैदान की देखभाल करने वाली नौकरी मिली । इधर के वर्षों में घासमैदान की स्थिति बदल नहीं हुई । वर्ष 2017 में अधिक वर्षा होने के कारण घासमैदान के घास और फूलों में काफी वृद्धि हुई है ।”

थाशी त्सेरिंग का कार्यस्थल सानच्यांगयुवान की थ्वोथ्वो नदी क्षेत्र में है । थाशी का घर गोलमुद शहर के उपनगर में स्थित है जहां उन के कार्यस्थल से कई सौ किलोमीटर दूर है । अपने काम का परिचय देते हुए थाशी ने कहा,“मेरी जैसी नौकरी का तनख्वाह ज्यादा नहीं है । गाड़ियों के लिए ईंधन भरने आदि का खर्च भी है । लेकिन तनख्वाह सब से बड़ी बात नहीं है । घासमैदान की रक्षा करना हमारा मिशन है । हमें जरूर ही अच्छी तरह अपना कर्तव्य निभाना चाहिये ।”

वर्ष 2004 में सरकार ने सानच्यांगयुवान क्षेत्र में गरीबी मिटाओ का अभियान शुरू किया और थ्वोथ्वो नदी क्षेत्र में रहने वाले 128 परिवारों को स्थानांतरित किया । इन गरीब चरवाहों के नये घर गोलमुद शहर के उपनगर में रखे गये और सभी लोगों को नौकरियों का परिचय किया गया । नये गांव में रहने वालों के जीवन में काफी सुधार आया है । थाशी त्सेरिंग अब चरवाहा नहीं हैं, वे दुकानदार और बाहर में नौकरी का काम करते थे । वर्ष 2013 में थाशी को घासमैदान की देखभाल करने वाली नौकरी मिली । इसके बाद थाशी का विवाह हुआ और एक बच्चा भी जन्म हुआ । थाशी के पिता जी सेंग्गे को भी बहुत खुशी है क्योंकि अब थाशी को न सिर्फ सरकार की नौकरी मिल पायी है, बल्कि अपनी जन्मभूमि थ्वोथ्वो नदी के घासमैदान की देखभाल का मौका भी प्राप्त है । सेंग्गे ने कहा,“घासमैदान में वातावरण की रक्षा करना सबसे महत्वपूर्ण है । हमारा घर स्थानांतरित हो गया है, पर हमारा दिल वहां सुरक्षित है । क्योंकि हम पीढ़ी दर पीढ़ी घासमैदान में रहते थे । मैं अपने बच्चों को बताता हूं कि अपनी जान को सुरक्षित करने की ही तरह घास मैदान की रक्षा करना चाहिये ।”

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी