इतिहास का सिंहावलोकन --- तिब्बत की ओर जन मुक्ति सेना का अभियान

2019-08-08 14:03:00

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के दक्षिण पश्चिमी ब्यूरो के नेताओं ने गंभीरता से सोच करने के बाद तिब्बत की मुक्ति करने का काम चीनी जन मुक्ति सेना के अधीन नम्बर 18 सेना को सौंप दिया। इस सेना के कमांडर, 36 वर्षीय चांग क्वोह्वा ने चीनी जन मुक्ति सेना और स्थानीय सत्ता में नेतृत्व का काम किया था। देश की मुक्ति करने वाले युद्ध के दौरान उन्होंने बार बार विजय प्राप्त किया था और अद्भुत कारनामा जीता था। नेताओं ने नम्बर 18 सेना को तिब्बत की मुक्ति करने की जिम्मेदारी सौंपने और जनरल चांग क्वो ह्वा को इस सेना के कमांडर नियुक्त करने का फैसला लिया। नम्बर 18 सेना के सभी सैनिकों ने आदेश मिलने के बाद अपनी तैयारियां शुरू कीं। लेकिन केंद्र ने सैनिक अभियान करने से पहले तिब्बत की शांतिपूर्ण मुक्ति संपन्न करने की भरसक कोशिश की। पार्टी की केंद्रीय कमेटी ने दक्षिण पश्चिमी ब्यूरो को यह बताया कि हमारी सेना की तिब्बत की ओर अभियान करने की योजना अविचल है। पर हमें दलाई लामा के साथ वार्ता के जरिये समाधान करने की हर संभव कोशिश करनी चाहिये। इसी उद्देश्य में पार्टी की केंद्रीय कमेटी और स्थानीय नेतृत्वकारी विभागों ने विभिन्न ढ़ंग से तिब्बत की स्थानीय सत्ता के साथ संपर्क रखने का प्रयास किया। कुछ जीवित बुद्धों ने छींगहाई और गैनत्सी आदि क्षेत्रों से ल्हासा जाकर दलाई लामा को समझाने-बुझाने का काम किया। उन में कुछ देशभक्त जीवित बुद्धों ने अपनी जान भी बलिदान की।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी