दक्षिण अफ्रीका के विद्वानों ने ब्रिक्स देशों की भूमिका की बड़ी पुष्टि की

2017-09-18 12:38:07

 

वर्ष 2010 के अंत में दक्षिण अफ्रीका ने औपचारिक रूप से ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग की व्यवस्था में भाग लिया था, जो इस व्यवस्था में

   अफ्रीकी महाद्वीप पर एकमात्र प्रतिनिधि बना। दक्षिण अफ्रीका के वैश्विक वार्ता अनुसंधान केंद्र के वरिष्ठ शोधकर्ता

फ्रांसिस कोर्नगेय की नज़र में इस कार्यवाही से अफ्रीका की अर्थव्यवस्था में दक्षिण अफ्रीका के नेतृत्व की भूमिका मजबूत की जा रही है।

उन्होंने कहा कि ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग की व्यवस्था में भाग लेने से अफ्रीकी महाद्वीप पर दक्षिण अफ्रीका का प्रभाव बढ़ रहा है, जिससे इस महाद्वीप पर दक्षिण अफ्रीका के नेतृत्व की भूमिका एक बार फिर तय की गई है। नए विकास बैंक को अफ्रीकी मुख्यालय दक्षिण अफ्रीका में स्थापित होने से भी यह पता चलता है।

दक्षिण अफ्रीका की मानविकी अनुसंधान परिषद के ब्रिक्स देशों के अनुसंधान केंद्र की अध्यक्ष जया जोसी ने कहा कि ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग की व्यवस्था में भाग लेना दक्षिण अफ्रीका के लिए विदेशों के साथ संबंधों को नयी आकृति प्रदान करने का एक मौका है।

उन्होंने कहा कि ब्रिक्स देशों में से एक बनना दक्षिण अफ्रीका के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, जिससे हमारे बाहरी संबंधों में और अधिक चुनाव किया जा सकता है, जो विकसित आर्थिक समुदाय से नवोदित बाजार देश तक का विकास किया गया है।

दक्षिण अफ्रीका के अंतर्राष्ट्रीय मामला अनुसंधान केंद्र की आर्थिक और राजनयिक परियोजना के शोधकर्ता सिरिल प्रिंसलू का विचार है कि ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग की व्यवस्था में भाग लेने से दक्षिण अफ्रीका को नए व्यापार मित्र मिले।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी