साईहनपा के लोगों द्वारा आधी सदी तक वनीकरण से हरित विकास तक का विवरण

2017-12-14 11:26:01

चीन की राजधानी बीजिंग के उत्तर से 200 किलोमीटर दूर क्षेत्र में विश्व का सबसे बड़ा कृत्रिम जंगल स्थिति है, जिसका क्षेत्रफल 74 हजार 7 सौ हेक्टेयर है। यह हपेई प्रांत का साईहनपा राज्य के स्वामित्व वाली मशीनरी वन फार्म है। पिछली आधी सदी से अधिक के समय में साईहनपा की कई पीढ़ी के लोगों ने वहां रेतीली भूमि को जंगल में बदलने की कोशिश की और वन फार्म और आसपास के आर्थिक और सामाजिक हरित विकास किया। सुनिए विस्तार से।

साईहनपा मंगोलियाई और चीनी शब्दों के संश्लेषण से मिल गया है, जिसका मतलब है सुन्दर ऊंचा पहाड़। हर वर्ष की गर्मियों के समय साईहनपा के वन क्षेत्र में सबसे सुन्दर ऋतु होती है। ग्रीनफील्ड में पानी और घास हरियाली से भरी है और वहां विविध प्रकार के कीट पतंगे और पक्षी रहते हैं। अनेक पर्यटक गर्मी से बचने के लिए वहां की यात्रा करते हैं।

पेइचिंग से एक यात्री ने कहा कि यहां का वातावरण और हवा बहुत साफ है, आकाश नीला नीला है, बुहत सुन्दर है। ताज़ा हवा के साथ साथ दृश्य भी बहुत अच्छे हैं। पेइचिंग में रहने वाले अनेक लोग यहां आते हैं।

साईहनपा का दृश्य बहुत सुन्दर है। वन फार्म बहुत महत्वपूर्ण पारिस्थितिक भूमिका निभाता है। चीनी वानिकी अकादमी के आंकलन के अनुसार साईहनपा वन फार्म में वन का क्षेत्रफल 74 हजार 7 सौ हेक्टेयर है, जिसकी जंगल व्यवस्था हर वर्ष 13 करोड़ 70 लाख घन मीटर का जल संरक्षण कर सकती है और 7 लाख 47 हज़ार टन कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करती है, 20 लाख लोगों के लिए एक वर्ष में साँस लेने वाला ऑक्सीजन रिलीज करती है।

लेकिन पहले समय में साईहनपा वन फार्म की स्थापना और निर्माण होने के समय लोगों ने बहुत कठिनाईयां झेली थीं। वन फार्म से सेवानिवृत्त कर्मचारी च्यांग बाओचू की याद के अनुसार पहले वहां हवा और रेत बहुत ज्यादा थी, पतझड़ के दिनों में कमरे में रोशनी जलाती थी, वरना बाहर की कोई चीज़ नहीं देख सकती थी।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी