श्रीलंका में बाँध परियोजना के शुभारंभ रस्म में उपस्थित सिरिसेना

2017-01-12 16:35:24

चीनी उपक्रम द्वारा निर्माण किए जाने वाली मध्य श्रीलंका स्थित मोरगहाकंदा बाँध परियोजना के जलद्वार बंदकर पानी रोकने की रस्म 11 जनवरी को आयोजित हुई। श्रीलंकाई राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना और श्रीलंका स्थित चीनी राजदूत यी श्यानल्यांग ने इसमें भाग लिया।

सिरिसेना ने बाँध के जलद्वार बंदकर पानी रोकने का स्वागत किया और बधाई भी दी। उन्होंने कहा कि यह बाँध परियोजना श्रीलंका के आर्थिक विकास के लिए बहुत सार्थक है। उन्होंने देश की सरकार और जनता की ओर से चीन सरकार और परियोजना के निर्माताओं के प्रति आभार व्यक्त किया और आशा जतायी कि भविष्य में चीनी उपक्रम श्रीलंका के आर्थिक सामाजिक विकास के लिए और अधिक योगदान देंगे। 

वहीं, राजदूत यी श्यानल्यांग ने कहा कि वर्तमान में चीन-श्रीलंका संबंध के सामने नए विकास के अवसर हैं। भविष्य में ज्यादा से ज्यादा चीनी उपक्रम निवेश के लिए यहां आएंगे। चीन सामाजिक और आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने के लिए श्रीलंका को सहायता देने को तैयार है।

जानकारी के अनुसार यह बाँध चीनी उपक्रम द्वारा श्रीलंका में निर्माण किए जाने वाला पहले बड़े आकार वाला जल संसाधन परियोजना है, जिसका प्रयोग सिंचाई, पानी सप्लाई और पनबिजली में किया जाएगा। उसका लक्ष्य मध्य और उत्तर श्रीलंका में सूखे इलाकों में कृषि उत्पादन क्षमता को उन्नत करना, सुरक्षित जीवन पानी और औद्योगिक पानी की सप्लाई करना, स्थानीय नागरिकों के बिजली स्थिति में सुधार करना है।

इस बाँध परियोजना का निर्माण जुलाई 2012 में शुरु हुआ, आगामी मई महीने में पूरा हो जाएगा।

(श्याओ थांग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी