《राजा गेसार》 को चीन की सरकारी प्रणालीगत संरक्षण मिला

2017-01-24 18:21:51

《राजा गेसार》गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण को स्थानीय शिक्षा प्रणाली में शामिल किया गया। ताकि गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासत के माध्यम से युवाओं को परंपरागत सांस्कृतिक शिक्षा और देशभक्ति वाली शिक्षा दी जा सके। चीन के छिंगहाई प्रांत के कुओ लुओ तिब्बत स्वशासन प्रिफेक्चर के संस्कृति और खेल ब्यूरो के प्रधान दोरजे ग्यात्सो ने 24 जनवरी को यह बात कही।

《राजा गेसार》विश्व में सबसे लम्बा एतिहासिक महाकाव्य है। इसमें 2 करोड़ से ज्यादा शब्द मौजूद हैं, जो विश्व के पांच महाकाव्यों के शब्दों की कुल संख्या से अधिक है। वर्ष 2016 चीन सरकार ने उसे पहली खेप की राष्ट्रीय गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासत की सूची में शामिल किया और वर्ष 2009 《राजा गेसार》को यूनेस्को के मानव की गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासत के प्रतिनिधित्व सूची में शामिल किया गया।

हाल ही में चीनी संस्कृति मंत्रालय ने गेसार संस्कृति के पारिस्थितिक संरक्षण की प्रायोगिक समग्र योजना के कार्यान्वयन पर सहमति जतायी। जो चीन की गेसार संस्कृति का एकमात्र पारिस्थितिक संरक्षण प्रायोगिक क्षेत्र के औपचारिक निर्माण का द्योतक है।

(मीनू)

कैलेंडर

न्यूज़:
व्यापार पर्यटन फ़ैशन खेल एक्सपर्ट राय
व्यापार:
ख़बर व्यक्ति चीन का मार्किट चीन में निवेश
पर्यटन:
चीन की सैर पर्यटन जानकारी लोकप्रिय फोटो भारत दर्पण बलॉग चीनी भाषा सीखें
बाल-महिला स्पेशल
विश्व का आईना
चीनी भाषा सीखें:
वीडियो वीडियो
फोटो गैलरी:
चीन भारत दुनिया पर्यटन फ़ैशन शो