तुर्की 16 अप्रैल को जनमत संग्रह आयोजित करेगा

2017-02-12 16:44:56

तुर्की की सर्वोच्च चुनाव कमेटी के अध्यक्ष सादी गुवेन ने 11 फ़रवरी को घोषणा की कि तुर्की इस साल 16 अप्रैल को जनमत संग्रह आयोजित करेगा, ताकि संविधान संशोधन पर फ़ैसला किया जा सके। इस संविधान संशोधन के अनुसार तुर्की की संसद व्यवस्था राष्ट्रपति व्यवस्था में बदलेगी।

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैय्यप एर्दोगन ने 10 फ़रवरी को संविधान संशोधन की अनुमति दी। बाद में इस पर जनमत संग्रह आयोजित करने का फैसला किया गया।

गत वर्ष 10 दिसंबर को सत्तारुढ़ पार्टी न्याय व विकास पार्टी ने औपचारिक रूप से संसद में संविधान संशोधन किया। इस संशोधन के अनुसार तुर्की संसद व्यवस्था से राष्ट्रपति व्यवस्था तक बदलेगा। संविधान में राष्ट्रपति को वास्तविक अधिकार दिये जाऐंगे। और प्रधानमंत्री का पद खत्म किया जाएगा। राष्ट्रपति लगातार पार्टी के अध्यक्ष बन सकेंगे। उनके अलावा संसद के सदस्यों की संख्या 550 से 600 तक बढ़ेगी।

इस वर्ष 21 जनवरी को तुर्की की ग्रैंड नेशनल असेंबली ने पक्ष में 339 वोटों से इस संशोधन को पारित किया। लेकिन वोटों की संख्या संसद का दो तिहाई तक नहीं पहुंची। इसलिये इसे लागू करने के लिए जनमत संग्रह की जरूरत है। 

चंद्रिमा

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी