त्याओयू द्वीप की राष्ट्रीय प्रभुसत्ता के मुद्दे पर अमेरिका व जापान ग़लत बयान न दें- चीन

2017-02-13 18:35:16

हाल में जापान व अमेरिका के नेताओं ने संयुक्त वक्तव्य जारी कर त्याओयू द्वीप और दक्षिण चीन सागर समस्या की चर्चा की। इसे लेकर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गन श्वांग ने 13 फरवरी को पेइचिंग में कहा कि जापान व अमेरिका को इस समस्या का सावधानी से निपटारा करना चाहिए और गलत बयान नहीं जारी करने चाहिए, ताकि संबंधित समस्या जटिल न बनें और क्षेत्रीय शांति व स्थिरता को नुकसान न पहुंचे।

जापान व अमेरिका ने हाल में संयुक्त वक्तव्य जारी कर कहा कि अमेरिका-जापान सुरक्षा संधि की नम्बर 5 धारा त्याओयू द्वीप के लिए उचित है। इसकी चर्चा में गन श्वांग ने कहा कि त्याओयू द्वीप और उसके आसपास के द्वीप चीन की प्रादेशिक भूमि हैं। चाहे कोई भी व्यक्ति कुछ भी क्यों न कहे, इस तथ्य को बदला नहीं जा सकता। देश की प्रभुसत्ता व प्रादेशिक अखंडता की रक्षा करने के चीन का संकल्प कभी नहीं हिलेगा। दक्षिण चीन सागर की सम्सया को लेकर गन श्वांग ने कहा कि चीन का रुख हमेशा व स्पष्ट रहा है। दक्षिण चीन सागर के द्वीपों और आसपास के समुद्र क्षेत्र पर चीन की प्रभुसत्ता है। चीन अमेरिका व जापान से दक्षिण चीन सागर समस्या का यथार्थ निपटारा करके दक्षिण चीन सागर की शांति व स्थिरता के हित में काम करने का आह्वान करता है। 


कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी