ब्रिक्स का“चीन वर्ष”शुभारंभ

2017-02-24 11:09:58

23 फरवरी को ब्रिक्स देशों की वर्ष 2017 में प्रथम समन्वयक बैठक चीन के नानचिंग शहर में आयोजित हुई जिसे सितंबर माह में दक्षिणी चीन के श्यामन शहर में आयोजित ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का प्रस्तावना भी कहा जाता है। यह शिखर सम्मेलन इस वर्ष चीन में आयोजित होने वाला सबसे महत्वपूर्ण राजनयिक गतिविधि है और चीन इसे अत्यंत महत्व देता है । समन्वयक बैठक में उपस्थित चीनी स्टेट कांसुलर यांग च्ये छी ने भाषण देते हुए कहा कि चीन को आशा और विश्वास है कि खुलेपन, समावेशी, सहयोग व उभय जीत के सिद्धांतों पर ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग का स्तर बढ़ता जाएगा और विश्वव्यापी प्रभाव प्राप्त सहयोग मंच भी स्थापित किया जाएगा । ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग होने से निष्पक्ष और उचित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की स्थापना को भी बढ़ावा मिल पाएगा ।

वर्ष 2016 के 15 से 16 अक्तूबर तक ब्रिक्स देशों के नेताओं का 8वां शिखर सम्मेलन भारत के गोवा में आयोजित हुआ । इसके बाद चीन इस वर्ष की शुरूआत से ब्रिक्स देशों का अध्यक्ष देश बन गया है । आगामी सितंबर महीने में दक्षिणी चीन के श्यामन शहर में 9वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन आयोजन किया जाएगा । इसकी तैयारी करने के लिए ब्रिक्स देशों की पहली समन्वयक बैठक 23 फरवरी को चीन के नानचिंग शहर में संपन्न हुई । बैठक में चीनी स्टेट कांसुलर यांग च्ये छी ने इधर दस सालों के भीतर ब्रिक्स देशों के विकास का सिंहावलोकन करते हुए कहा कि ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग करने की संरचना, नये उभरते देशों और विकासमान देशों के बीच सहयोग करने का एक चमकदार संकेत बन गया है । उन्होंने कहा, इधर दस सालों के भीतर ब्रिक्स देश किसी अर्थशास्त्री की रिपोर्ट में निर्धारित निवेश की अवधारणा से निकलकर, विश्व में नये उभरते व विकासमान देशों के बीच सहयोग करने के चमकदार संकेत बन गये हैं । ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग संरचना से विश्व स्थितियों तथा अंतर्राष्ट्रीय शक्तियों के परिवर्तन के अनुकूल है । और ब्रिक्स देशों की एकता अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के समान हितों के अनुकूल भी है । आज ब्रिक्स देश विश्व अर्थतंत्र को बढ़ाने, विश्व शासन का सुधार करने तथा अंतरराष्ट्रीय संबंधों के लोकतंत्रीकरण को बढ़ाने में महत्वपूर्ण शक्ति भी बन गये हैं ।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी