साल 2016 मानव विकास रिपोर्ट जारी

2017-03-22 11:15:43

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने 21 मार्च को स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में 2016 मानव विकास रिपोर्ट जारी की और बताया कि वैश्विक विकास के प्राथमिक विषयों में दुनिया के सबसे पिछड़े समूहों को याद नहीं किया जाता।

इस रिपोर्ट में कहा गया कि पिछले 25 सालों में मानव विकास में कई उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल हुई हैं, लेकिन अब भी तमाम पिछड़े समूहों पीछे छूटे हैं। सिस्टम में मौजूद बाधाओं को हटाया जाना चाहिए। हरेक व्यक्ति को अनवरत मानव विकास का लाभ पहुंचाने के लिए हमें बहिष्कृत समूहों पर और ज़्यादा ध्यान देना चाहिए और सक्रिय कदम उठाकर बाधाओं को मिटाना चाहिए।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि करीब प्रत्येक देश में कुछ कमजोर व्यक्ति होते हैं। विकसित देशों में भी 30 करोड़ गरीब आबादी रहती है, जिनमें एक तिहाई बच्चे हैं। मानव विकास सूचकांक के मुताबिक, 1990 से 2015 के बीच विश्व में औसत मानव विकास स्तर में उल्लेखनीय प्रगति आयी है, फिर भी एक तिहाई आबादी निचले मानव विकास स्तर पर रहती है।

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की प्रमुख हेलन क्लार्क ने एक न्यूज ब्रीफिंग में कहा कि भेदभाव वाले सामाजिक मापदंड एवं कानून को मिटाने और राजनीतिक भागीदारी की असमानता समस्या का हल करने से हम गरीबी का उन्मूलन कर सकते हैं। इससे सब लोग शांतिपूर्ण व न्यायपूर्ण अनवरत विकास का उपभोग कर सकेंगे।

गौरतलब है कि 1990 से अब तक संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यालय हर साल वैश्विक मानव विकास रिपोर्ट जारी करता है और मानव विकास में मौजूद प्रमुख मुद्दों, प्रवृत्ति और नीतियों का स्वतंत्र विश्लेषण करता है।



कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी