एक पट्टी एक मार्ग से भारत को लाभ मिलेगा

2017-03-25 11:45:39

भारत के आर्थिक व व्यापारिक क्षेत्रों और निजी कारोबारों को एक पट्टी एक मार्ग के निर्माण से लाभ मिल सकेगा। चीन और भारत को आपसी सूचना के संपर्क व आदान-प्रदान और सहयोग को मजबूत करना चाहिए। बोआओ एशिया मंच के 2017 वार्षिक सम्मेलन में भाग लेने वाले भारतीय आदित्य बिडला ग्रुप के सीईओ एवं श्रेष्ठ अर्थशास्त्री अजीत राणाडे ने 24 मार्च को सीआरआई संवाददाता को दिए एक इंटरव्यू में यह बात कही।

अजीत ने कहा कि एक पट्टी एक मार्ग के निर्माण में चीन और भारत के सहयोग को मजबूत किया जा सकता है। भारत भी अपनी भूमिका अदा कर सकता है। इस क्षेत्र में हमारे दोनों देशों के बीच सूचनाओं के संपर्क को प्रगाढ़ किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत को इस नीति से अवश्य ही लाभ मिल पाएगा। हाल में चीन और भारत ब्रिक्स देशों के अहम सदस्य हैं और एशियाई आधारभूत संस्थापन निवेश बैंक (एआईआईबी) के संस्थापक देश भी हैं। समान लाभ पाने के लिए चीन और भारत को हाथ मिलकर ब्रिक्स प्रणाली, एआईआईबी और एक पट्टी एक मार्ग आदि बहुध्रुवीय ढांचे में सहयोग को मजबूत करना चाहिए और समान विकास करना चाहिए ।



कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी