चीनी विदेशी अतिथियों ने “एक पट्टी एक मार्ग” की नीतियों के आदान-प्रदान पर विचार किया

2017-05-15 10:28:05

14 मई को पेइचिंग में आयोजित"एक पट्टी एक मार्ग" शिखर मंच के तहत नीति संचार सम्मेलन में विभिन्न देशों के 40 से अधिक अतिथियों ने"एक पट्टी एक मार्ग"की नीतियों के आदान-प्रदान और विकास योजना के लिंक पर विचार विमर्श किया।

चीनी राजकीय विकास व रुपांतर आयोग के प्रधान ह ली फ़ंग ने मौके पर कहा कि चीन दूसरे देशों के साथ उचित प्लेटफार्म के जरिये भिन्न-भिन्न विकास योजनाओं को आपस में जोड़ने को तैयार है । इंडोनेशिया के उद्योग मंत्री हार्तातो ने कहा कि नवाचार हमारे सहयोग का प्रमुख विषय है । अभी इंडोनेशिया ने चीन के छींगह्वा विश्वविद्यालय के साथ प्रौद्योगिकी केंद्र की स्थापना पर समझौता संपन्न किया है । हम समुद्र, मार्ग आदि बुनियादी उपकरणों के क्षेत्रों में सहयोग करेंगे जो सब "एक पट्टी एक मार्ग" का परीणाम है ।

संयुक्त अरब अमीरात के राज्य मंत्री सुल्तान एहमद अली जाबेर ने कहा कि "एक पट्टी एक मार्ग" के निर्माण से एशिया के विकासमान देशों को मौका मिल सकेगा और इससे विश्व की शांति, सुस्थिरता और समृद्धि संपन्न होगी।

सम्मेलन में विभिन्न प्रतिनिधियों ने देशों के बीच नीतियों के आदान प्रदान और एक दूसरे की विकास रणनीतियों को जोड़ने पर बल दिया है । चीन के शूक्वांग कंपनी के प्रमुख ली च्वन ने कहा कि उनकी कंपनी लाओस, वियतनाम, श्रीलंका और रूस आदि देशों के सूचना प्रौद्योगिकी इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण में सक्रियता से भाग लेगी ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान मंच की समाप्ति के बाद चीन "एक पट्टी एक मार्ग" के पश्चात संपर्क तंत्र स्थापित करेगा, "एक पट्टी एक मार्ग" वित्त व विकास अनुसंधान केंद्र की स्थापना करेगा और "एक पट्टी एक मार्ग" निर्माण संवर्धन केंद्र स्थापित करेगा । विभिन्न देशों की विकास योजनाओं के आदान प्रदान से अधिकाधिक देशों को "एक पट्टी एक मार्ग" की उपलब्धियां हासिल हो सकेंगी ।

 ( हूमिन )

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी