शी चिनफिंग का शांगहाई सहयोग संगठन की शिखर बैठक में महत्वपूर्ण भाषण

2017-06-10 15:44:51

9 जून को शांगहाई सहयोग संगठन की 17वीं शिखर बैठक कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना में आयोजित हुई। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग, कजाकिस्तान के राष्ट्रपति नूरसुल्तान नज़रबायेव, किर्गिस्तान के राष्ट्रपति अल्माजबेक अतमबायेव, ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति एमोमाली राखमोनोव और उज़्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शावकट मिर्जीयोयेव ने इसमें हिस्सा लिया। शी चिनफिंग ने इस बैठक में महत्वपूर्ण भाषण में कि शांगहाई सहयोग संगठन के सदस्य देशों को भाग्य के समान समुदाय की जागरूकता मज़बूत कर एकता और समन्वय बढ़ाकर मिलकर चुनौतियों का सामना करना, व्यावहारिक सहयोग बढ़ाना, सांस्कृतिक जुड़ाव घनिष्ठ बनाना, खुलेपन और समावेशी मुद्दों कायम रहकर इस संगठन के अधिक उज्जवल भविष्य बनाना चाहिए।


एसओसी के सदस्य देशों के नेताओं ने पहले छोटे दायरे की बैठक की फिर भारत और पाकिस्तान समेत पर्यवेक्षक देशों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के नेताओं और प्रतिनिधियों के साथ बडे दायरे वाली बैठक की। बैठक में शरीक नेताओं ने शांगहाई सहयोग संगठन की वर्तमान स्थिति, कार्य और भविष्य पर चर्चा की और महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर रायशुमारी कर व्यापक मतैक्य प्राप्त किये। इस बैठक में औपचारिक रूप से भारत और पाकिस्तान को इस संगठन की सदस्यता दी गयी। बैठक में फैसला लिया गया कि शांगहाई सहयोग संगठन की अलगी शिखर बैठक वर्ष 2018 चीन में आयोजित होगी।

इस बैठक में शरीक नेताओं का समान विचार है कि इस संगठन के सदस्यों का विस्तार इस संगठन के विकास और उसकी नीहित शक्ति पूरी करने को बढ़ाएगा। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र चार्टर के उद्देश्यों और सिद्धांतों को दोहराकर अपने केंद्रीय हितों की सुरक्षा में एक दूसरे का समर्थन मज़बूत  करने पर राज़ी किया। उन्होंने एक पट्टी एक मार्ग योजना का स्वागत किया और इस वर्ष मई में पेइचिंग में आयोजित एक पट्टी एक मार्ग शिखर बैठक का उच्च मूल्यांकन किया।

एसओसी के सदस्यों के नेताओं ने अस्ताना घोषणा पत्र, चरमपंथ विरोधी समझौते समेत सिलसिलेवार दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किये।

(वेइतुङ)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी