शहरों में हुए युद्ध में मरने वालों की तादाद ज्यादा

2017-06-21 18:59:39

20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस था। इस मौके पर रेड क्रॉस अंतर्राष्ट्रीय कमेटी ने रिपोर्ट जारी करके कहा कि 21वीं शताब्दी में युद्ध की एक विशेषता है अधिकतर लोग शहरों में मारे गए हैं।

इस रिपोर्ट के अनुसार शहरों में युद्ध करना एक सामान्य स्थिति बन चुका है। बेगुनाहों के प्रति शहरी युद्ध में भागने का मौका बहुत कम होता है। इसलिये हताहतों की संख्या बढ़ती है।

रिपोर्ट के अनुसार बिते तीन वर्षों में सीरिया, इराक में हुए संघर्षों में मृतकों के 70 प्रतिशत लोग शहर में मारे गये। वर्ष 2010 से वर्ष 2015 तक विश्व में हुए युद्धों व संघर्षों में मृतकों की संख्या में 50 प्रतिशत लोगों ने सीरिया, इराक व यमन में अपनी जान खोयी।


चंद्रिमा

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी