ईयू से बाहर जाने पर ब्रिटेन पर पड़ेगा नकारात्मक प्रभाव – कार्नी

2017-09-19 16:47:01

यूरोपीय संघ (ईयू) से बाहर निकलने की अनिश्चितता के कारण अगले साल के मध्य वर्ष के पहले जी-7 के अन्य सदस्यों की तुलना में ब्रिटेन की आर्थिक विकास दर और धीमा होगी। बैंक ऑफ इंग्लैंड के प्रमुख मार्क कार्नी ने 18 सितंबर को वॉशिंगटन में यह बात कही

उस दिन अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष में मार्क कार्नी ने घोषण की कि ईयू से बाहर निकलने पर ब्रिटिश परिवारों ने खर्च में कटौती की और उद्यमों ने निवेश घटाया। इस वर्ष की पहली छमाही में जी-7 के अन्य सदस्य देशों में त्वरित आर्थिक विकास पूरा हुआ, जबकि ब्रिटेन में आर्थिक विकास दर मंदी बनी रही।

उन्होंने कहा कि ईयू से बाहर निकलने के बाद ब्रिटेन अपने सबसे बड़े व्यापारी सहयोगी के साथ एक नया संबंध बनेगा। दोनों देशों के बीच मूल्य श्रृंखला, उत्पाद और श्रम बाजार जैसे क्षेत्रों में बहु आयामी बनने के साथ-साथ ब्रिटेन में मुद्रा-स्फीति का स्तर को बढ़ाएगा

पिछले जून में ब्रिटेन के ईयू से बाहर निकलने पर जनमत से ब्रिटेन की मुद्रा-स्फीति दर में लगातार वृद्धि होती जा रही है। इस अगस्त में ब्रिटेन की मुद्रा-स्फीति दर 2.9 प्रतिशत पर जा पहुंची, जो बैंक ऑफ इंग्लैंड की उम्मीदों की तुलना में साफ तौर पर उत्तम है।

इस बात पर मार्क कार्नी ने कहा कि ब्याज दर समायोजन पर बैंक ऑफ इंग्लैंड का कदम क्रमिक से प्रगतिशील और सीमित है। अगले कुछ महीने में कुछ मौद्रिक प्रोत्साहन उपाय घटना उपयुक्त होंगे।(हैया)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी