बहुत विशाल है चीन-भारत पर्यटन सहयोग की संभावना

2017-10-02 17:20:01

नयी दिल्ली स्थित चीनी राष्ट्रीय पर्यटन ब्यूरो के कार्यालय के अध्यक्ष थ्येन शिन ने हाल ही में संवाददाता को इन्टरव्यू देते समय कहा कि चीन और भारत के बीच पर्यटन सहयोग की संभावनाएं बहुत विशाल हैं। दोनों देशों को आपसी मेलजोल मजबूत करके द्विपक्षीय संबंधों के स्वस्थ और निरंतर विकास को बढ़ावा देना चाहिये।

हाल के कई वर्षों में भारत की पर्यटन व्यवसाय का बड़ा विकास हुआ है। आर्थिक विकास और जनता के जीवन स्तर की उन्नति के साथ ज्यादा से ज्यादा भारतीय लोगों ने विदेश यात्रा को चुना। आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2016 में कुल 2 करोड़ 18 लाख 70 हजार भारतीयों ने विदेश यात्राएँ की है। जो वर्ष 2015 की तुलना में 7.3 प्रतिशत अधिक रही। अनुमान है कि वर्ष 2020 तक यह संख्या 5 करोड़ तक पहुंचेगी। भारत तेजी से आउट बाउंड पर्यटकों का स्रोत बाजार बन रहा है। बहुत से देश और क्षेत्र भारत को पर्यटन विकास कार्य में एक महत्व मानते हैं।

थ्येन शिन के अनुसार चीन - भारत दोनों पर्यटन संसाधनों के बड़े देश हैं। दोनों के बीच पर्यटन मेलजोल और सहयोग करने में प्राकृतिक श्रेष्ठता, विशाल संभावना और बड़ी निहित शक्ति है। पहले, दोनों देशों में स्थिर राजनीति और मित्रवत जनता है, जो पर्यटन मेलजोल के लिये अच्छा वातावरण और पूर्व शर्त है। दूसरे, दोनों देशों में पर्यटन संसाधन बहुत समृद्ध है, और एक दूसरे के पूरक भी हैं। तीसरे, दोनों पड़ोसी देश हैं। इसलिये आने-जाने का रास्ता, समय और खर्च कम हैं। चौथे, दोनों के बीच यातायात बहुत सुविधाजनक है। चीन और भारत की कई एयरलाइन कंपनियों ने सीधी उड़ानें खोली हैं। और पांचवें, दोनों देशों के उपभोग स्तर बराबर हैं।

चंद्रिमा

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी