यूरोपीय संघ और नाटो के मिश्रित खतरे का मुकाबला केंद्र का प्रयोग शुरू

2017-10-03 18:16:00

यूरोपीय संघ और नाटो द्वारा संयुक्त रूप से स्थापित यूरोपीय मिश्रित खतरे का मुकाबला केंद्र का प्रयोग 2 अक्तूबर को हेलसिंकी में शुरू हुआ। फिनलैंड के राष्ट्रपति सौली वैनामो निनिस्टो ने उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता की।

नाटो के महासचिव जेंस स्टोल्टेनबेर्ग और यूरोपीय संघ में कूटनीति और सुरक्षा नीति के उच्च स्तरीय प्रतिनिधि फ्रेड्रेरिका मोगेरिनी ने समारोह में भाग लिया और भाषण दिया।

निनिस्टो ने कहा कि हमें रणनीतिक दृष्टि से दुश्मनों के लक्ष्य और तरीकों को जानना होगा। साथ ही हमें अपनी कमज़ोरी का पता लगाकर अच्छी तरह से तैयारी करनी चाहिये। साथ ही उन्होंने वर्तमान की मिश्रित खतरे को बढ़ा चढ़ाकर न बताने की चेतावनी भी दी।

स्टोल्टेनबर्ग के विचार में अब मिश्रित खतरे का दायरा अदर्शन से खोला गया। वह ट्वीट्टर से टैंक तक पहुंच गया।

मोगेरिनी ने यूरोपीय संघ और नाटो के सहयोग पर बल दिया। उन के विचार में मिश्रित खतरे के मुकाबला केंद्र की स्थापना तो यूरोपीय संघ और नाटो के बीच एक अभूतपूर्व सहयोग है। उन के अनुसार एक देश अपने आप जटिल खतरे का मुकाबला नहीं कर सकता। लेकिन हम संयुक्त रूप से इसका मुकाबला कर सकेंगे।

गौरतलब है कि मिश्रित खतरे का प्रभाव परंपरागत युद्ध की अपेक्षा कम है। उदाहरण के लिये गलत सूचनाओं का प्रसार-प्रचार करना, और सामाजिक व्यवस्था में बाधा डालना आदि। (चंद्रिमा)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी