ईरान के परमाणु समझौते पर पुनःचर्चा नहीं की जानी चाहिए

2017-10-06 16:13:01

ईरानी प्रेस टीवी की रिपोर्ट के अनुसार ईरानी परमाणु ऊर्जा संस्था यानी एईओआई के अध्यक्ष अली अकबर सालेही ने 5 अक्तूबर को रोम में आयोजित 20वें एदुआर्दो अमाल्दी कॉन्फ्रेंस में भाग लेने से पहले मीडिया से कहा कि ईरानी परमाणु समझौते पर पुनःचर्चा नहीं की जानी चाहिए।

सालेही ने कहा कि ईरान ने बार-बार जोर दिया था कि इस समझौते पर पुनःविचार विमर्श नहीं किया जा सकता है। लेकिन इस समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले कुछ पक्ष आशा करते हैं कि इस समझौते पर तकनीक स्तरीय सलाह मश्विरा किया जाएगा। यदि अमेरिका इस समझौते से हटता है, तो अन्य पक्ष भी अमेरिका से सीखेंगे। निसंदेहर यह समझौता प्रभावी नहीं होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि यदि सिर्फ़ अमेरिका इस समझौते से हटता है, तो ईरान की परमाणु समझौते की निगरानी कमेटी इस पर निर्णय लेगी।

गौरतलब है कि हाल में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने संयुक्त राष्ट्र महासभा की आम बहस में भाषण देकर फिर एक बार ईरानी परमाणु समझौते की आलोचना की और कहा कि वे संभवतः इस अक्तूबर के मध्य में अमेरिकी कांग्रेस को ईरान द्वारा इस समझौते का पालन करने को मान्यता देने की रिपोर्ट नहीं देंगे। उनकी बात से ईरान और अन्य अनेक पक्षों के ट्रम्प सरकार द्वारा इस समझौते को नष्ट करने की चिंता पैदा हुई।

(श्याओयांग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी