ईरानी परमाणु मुद्दे समझौते पर चिंतित

2017-10-14 15:26:00

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 13 अक्तूबर को व्हाइट हाउस में भाषण दिया और ईरानी परमाणु मुद्दे समझौते का उल्लंघन करने पर ईरान की ज़ोरदार निंदा की। अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी का मानना है कि ईरान ने इस समझौते से संबंधित प्रतिबद्धता का पालन किया है। रूस, फ्रांस, जर्मनी और ब्रिटेन समेत कई देश डोनाल्ड ट्रम्प के रुख पर चिंतित हैं और विभिन्न पक्षों को अपना दायित्व पूरा करने की अपिल की।

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के अधिकारी ने कहा कि अभी तक ईरान ने ईरानी परमाणु मुद्दे समझौते से संबंधित प्रतिबद्धता का पालन किया है और अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के आवधिक निरीक्षणों को भी स्वीकार किया है। इस दौरान ईरान और अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के बीच सहयोग जारी रहा, ताकि अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी और ज्यादा ईरान से संबंधित सूचना प्राप्त कर सके।

रूस के विदेश मंत्रालय ने 13 अक्तूबर को अपनी वेबसाइट पर वक्तव्य जारी कर कहा कि ईरानी परमाणु समझौता एक बहुपक्षीय समझौता है और विश्व शांति-सुरक्षा और मध्य-पूर्व क्षेत्र की स्थिरता में योगदान देता है। रूस हमेशा इस समझौते का पालन करेगा, किसी भी स्थिति में ईरान की परमाणु समस्या फिर से पैदा नहीं हो सकती।

फ्रांस के राष्ट्रपति, जर्मनी की प्रधानमंत्री और ब्रिटेन की प्रधानमंत्री ने 13 अक्तूबर की रात को संयुक्त वक्तव्य जारी कर कहा कि ईरान परमाणु मुद्दे समझौता संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पारित किया। अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने ईरान के इस समझौते का पालन करने की पुष्टि भी की। वे हमेशा इस समझौते का पालन करेंगे।

इसके साथ-साथ इज़रायल और सऊदी अरब ने डोनाल्ड ट्रम्प के रुख का समर्थन किया है।(मीरा)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी