चीन और भारत के बीच वैज्ञानिक और तकनीकी नवाचार सहयोग की विशाल संभावना मौजूद

2017-11-17 16:17:02

भारत स्थित चीनी राजदूत ल्यो चाओ ह्वेई ने 16 नवम्बर को नई दिल्ली में आयोजित द्वितीय चीन-भारत तकनीक, नवाचार व पूंजीनिवेश सहयोग मंच में कहा कि चीन और भारत दोनों वैज्ञानिक और तकनीकी नवाचार के जरिये देश का विकास करने की कोशिश कर रहे हैं । दोनों देशों के बीच सहयोग करने की बड़ी संभावना मौजूद हैं । आशा है कि चीन और भारत के समान कोशिशों से नवाचार सहयोग की नयी संरचनाएं तैयार की जाएंगी ।

चीनी राजदूत ने कहा कि चीन और भारत वैज्ञानिक और तकनीकी सहयोग समिति के आधार पर सरकारी सहयोग के मंच पर सहयोग कर सकेंगे । और साथ ही राष्ट्र स्तरीय प्रौद्योगिकी हस्तांतरण केंद्र रखकर नई ऊर्जा, पर्यावरण प्रौद्योगिकी, कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी, इंटरनेट सूचना, कृत्रिम बुद्धि, दवा और प्रौद्योगिकी वित्त आदि के सदर्भ में सहयोग किया जाएगा ।

मंच में उपस्थित भारत-चीन व्यापार केंद्र के अध्यक्ष राजीव शुक्ला ने कहा कि चीन-भारत तकनीक, नवाचार व पूंजीनिवेश सहयोग मंच की स्थापना से भारत और चीन के उद्यमियों के बीच सहयोग करने की गुंजाइश तैयार हो गयी है । यूपी के बुनियादी उपकरण और उद्योग विकास के जिम्मेदार पांडे ने कहा कि बीते दसेक सालों में चीन एक विनिर्माण प्रधान वाले देश से विज्ञान व तकनीक ताकत बन गयी है । अब यूपी और चीन के बीच भूमिगत रेल मार्ग के निर्माण, मोबाइल फ़ोन उत्पादन और कृषि प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में गहन रूप से सहयोग किया जा रहा है।

( हूमिन )

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी