चीन ने चीन-म्यांमार आर्थिक गलियारे का विचार प्रस्तुत किया

2017-11-20 11:52:01

19 नवंबर को म्यांमार की यात्रा कर रहे चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने नेप्पीडाव में म्यांमार की स्टेट काउंसिलर और विदेश मंत्री आंग सान सू ची से भेंट के समय चीन-म्यांमार आर्थिक गलियारे के निर्माण का विचार प्रस्तुत किया।

आंग सान सू ची से मुलाकात के बाद आयोजित संयुक्त प्रेस वार्ता में वांग यी ने कहा कि चीन म्यामांर को एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में महत्वपूर्ण साझेदार के रूप में देखता है। दोनों देशों के बीच सहयोग की बड़ी संभावनाएं मौजूद हैं। चीन और म्यांमार की सर्वांगीण रणनीतिक साझेदारी को मज़बूत करने और व्यावहारिक सहयोग बढ़ाने के लिए चीनी पक्ष ने खास तौर पर चीन-म्यांमार आर्थिक गलियारे का विचार पेश किया है।

वांग यी के अनुसार चीनी पक्ष का विचार है कि म्यांमार के राष्ट्रीय विकास की योजना और आवश्यकता के मुताबिक चीन-म्यांमार आर्थिक गलियारे के निर्माण पर संयुक्त रूप से विचार किया जाना चाहिए। यह आर्थिक गलियारा युन्नान प्रांत से चीन म्यांमार सीमा पार कर म्यांमार के मांडले तक पहुंचेगा, इसके बाद वह अलग अलग तौर पर पूर्व दिशा में यांगौंग (रंगून) के नये शहर और पश्चिमी दिशा में क्यौकप्यू विशेष आर्थिक क्षेत्र तक पहुंचेगा। ऐसे फैलाव दोनों देशों का आपस में बड़े स्तर पर सहयोग की बेहतर स्थिति बनेगी।

वांग यी ने कहा कि इस गलियारे से बड़ी परियोजनाओं को जोड़ने में मदद मिलेगी और म्यांमार के विभिन्न क्षेत्रों के अधिक संतुलित विकास के लिए भी ये लाभदायक होगा।

आंग सान सू ची ने इस प्रस्ताव की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि म्यांमार के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात शांति, स्थिरता और विकास है। इसे पूरा करने के लिए चीन के साथ सहयोग बहुत महत्वपूर्ण है। अगर दोनों देशों ने बेहतर स्तर पर आपसी सहयोग किया, तो न सिर्फ म्यांमार में शांति और स्थिरता साकार होगी, बल्कि म्यांमार का विकास भी होगा। (वेइतुङ)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी