चीनः नये ढंग वाले अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का निर्माण करें

2017-11-26 16:38:02

एशियाई संसद सभा का 10वां पूर्णाधिवेशन 20 से 25 नवम्बर को तुर्की के इस्तांबुल में आयोजित हुआ। चीनी प्रतिनिधि ने सम्मेलन में भाषण देकर विभिन्न देशों के संसदों से नये ढंग वाले अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का निर्माण करने की अपील की, ताकि मानव साझा भाग्य के समुदाय की विचारधारण को निरंतर मज़बूती मिले और शांति, विकास की रक्षा करने के लिए सक्रिय भूमिका निभाई जा सके।

वर्तमान पूर्णाधिवेशन का मुख्य विषय है एशियाई शांति और विकास की रक्षा करना। चीनी एनपीसी की विदेशी मामला कमेटी के उपप्रधान चाओ श्याओह्वा ने अपने भाषण में कहा कि हमें न्यायता का आह्वान करना चाहिए, एशिया की चिरस्थायी शांति की रक्षा करनी चाहिए, यथार्थ सहयोग को गहरा करना चाहिए, एशिया की समान समृद्धि को आगे बढ़ाना चाहिए और एशियाई सभ्यताओं के आपसी सबक लेने को मज़बूत करना चाहिए।

इस दौरान चाओ श्याओह्वा ने रूस, पाकिस्तान, कंबोडिया, ताजिकिस्तान, तुर्की और संयुक्त अरब अमीरात जैसे देशों के प्रतिनिधियों से मुलाकातें कीं। उन्होंने सीपीसी की 19वीं कांग्रेस के बारे में जानकारी दी और द्विपक्षीय संबंधों और कानून निर्माण संस्थाओं के सहयोग पर उनके साथ विचार विमर्श किया।

गौरतलब है कि एशियाई संसद सभा 2006 के नवम्बर माह में ईरान की राजधानी तेहरान में स्थापित हुई थी, जो एशिया-प्रशांत क्षेत्र के देशों की संसदों से गठित है। जिस का मकसद एशिया और प्रशांत क्षेत्र के विभिन्न देशों के सांसदों के लिए आपसी मेलजोल और दोस्ती को प्रगाढ़ करने का मंच प्रदान करना है और इस क्षेत्र यहां तक विश्व की शांति और विकास को आगे बढ़ाना है।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी