ट्रम्प ने येरुशलम को घोषित किया इजराइल की राजधानी

2017-12-07 12:15:04

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 6 दिसम्बर को येरुशलम को इजराइल की राजधानी घोषित किया। साथ ही अमेरिका इजराइल स्थित दूतावास को तेल अवीव से येरुशलम तक स्थानांतरित करने की प्रक्रिया शुरू करेगा। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की व्यापक चिंता है कि यह कार्यवाई मध्य पूर्व क्षेत्र की अस्थिरता को बढ़ाएगी।

टीवी भाषण में ट्रम्प ने कहा कि यह तथ्य को मान्यता देने वाला निर्णय है, जो अमेरिका के हितों से मेल खाता है। साथ ही उन्होंने कहा कि उन्होंने अमेरिकी विदेश मंत्रालय से दूतावास के स्थानांतरण कार्य की तैयारी करने की आज्ञा भी दी।

अपने भाषण में ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका फिलिस्तीन-इजराइल शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में लगा रहेगा और फिलिस्तीन व इजराइल द्वारा मान्यता दिये गये दो देशों के प्रस्ताव का समर्थन करता है। अमेरिकी उप राष्ट्रपति आगामी दिनों में मध्य पूर्व की यात्रा करेंगे और इस क्षेत्र के गठबंधन मित्र दो उग्रवादियों पर प्रहार करने के अमेरिका के संकल्प को दोहराऐंगे।

ट्रम्प के इस निर्णय के बाद अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का गंभीर ध्यान इस मुद्दे पर गया है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने इसका व्यापक विरोध किया।

गौरतलब है कि येरुशलम समस्या फिलिस्तीन-इजराइल शांति प्रक्रिया में बाधा पैदा करने वाली मुख्य समस्याओं में से एक है। इजराइल ने 1967 में पूर्वी येरुशलम पर कब्जा करने के बाद एक तरफा तौर पर पूरे येरुशलम को इजराइल की स्थायी व अखंडनीय राजधानी बनाने की घोषणा की। जबकि फिलिस्तीन ने पूर्वी येरुशलम की राजधानी वाले फिलिस्तीन देश की स्थापना करने का अनुरोध किया। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय येरुशलम पर इजराइल की प्रभुसत्ता को स्वीकार नहीं करता है। इजराइल के साथ राजनयिक संबंध स्थापना करने वाले कई देशों ने अपने दूतावास को येरुशलम की जगह तेल अवीव में स्थापित किया है।

(श्याओयांग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी