चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर तीसरे पक्ष के खिलाफ़ नहीं

2017-12-29 11:46:01

चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर के निर्माण को हाल में अहम प्रगति मिली है। 27 दिसम्बर को चीनी उद्यम द्वारा निर्मित पाकिस्तान की प्रमुख सड़क का प्रयोग शुरू हुआ। चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर की निर्माण प्रक्रिया से भारत में कुछ राजनयिकों और मीडिया संस्थाएं चिंतित हैं। कुछ लोगों ने कहा कि भारत को घेरने के लिए चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर का निर्माण किया जा रहा है। इसकी चर्चा में चीनी विदेश मंत्रालय ने 27 दिसम्बर कहा कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर का निर्माण किसी तीसरे पक्ष के खिलाफ नहीं है, लेकिन तीसरे पक्ष को लाभ देना चाहता है। यह पूरे क्षेत्र के हित में है।

चीनी विदेश मंत्री वांग ई ने 26 दिसम्बर को अफगानिस्तान और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के साथ आयोजित एक न्यूज ब्रीफिंग में कहा कि चीन व पाकिस्तान अफगानिस्तान के साथ आपसी लाभ और समान उदार के सिद्धांत के आधार पर चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर के उचित तरीके से अफगानिस्तान तक फैलने पर सक्रिय रूप से विचार विमर्श करेंगे।

चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर के निर्माण पर भारतीय मीडिया के संदेह से यह प्रतिबिंबित होता है कि एक पट्टी एक मार्ग के पहल के प्रति भारत चिंतित है। विश्लेषकों का मानना है कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर का निर्माण स्थानीय आर्थिक विकास, जन-जीवन का सुधार और देश के परिवर्तन की फौरी आवश्यकता को पूरा करता है। इसके अलावा आर्थिक कॉरिडोर का निर्माण अफगानिस्तान की जातीय सुलह और युद्ध के बाद पुनःनिर्माण के लिए लाभदायक है और अफगानिस्तान व पाकिस्तान के द्विपक्षीय संबंधों के सुधार को आगे बढ़ा सकेगा। इस कॉरिडोर के निर्माण का मकसद भारत को घेरना नहीं है, बल्कि क्षेत्रीय आर्थिक विकास और शांति व स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए लाभदायक है। साथ ही भारत के आसपास क्षेत्रों की सुरक्षा और आर्थिक विकास को नये विकास के मौके तैयार किये हैं। दक्षिण एशियाई क्षेत्र का बड़ा प्रभावशाली देश होने के नाते भारत को दीर्घकालीन दृष्टिकोण और वैश्विक दृष्टिकोण से एक पट्टी एक मार्ग के निर्माण का व्यवहार करना चाहिए। भारत के कुछ राजनयिकों और मीडिया संस्थाओं को चीन के खिलाफ़ की विचारधारा को त्यागना चाहिए और विभिन्न पक्षों के साथ आपसी विश्वास को प्रगाढ़ करना चाहिए, ताकि क्षेत्रीय शांति, सहयोग व विकास के नये ढांचे की रचना कर सके।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी