चीनी और फ्रांसीसी राष्ट्रपतियों के बीच औपचारिक वार्ता हुई

2018-01-10 11:00:08

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के निमंत्रण पर फ्रांसीसी राष्ट्रपति एम्मानुएल मैक्रोन ने 8 जनवरी से चीन की राजकीय यात्रा शुरू की। मैक्रोन साल 2018 में चीन की यात्रा पर आए न केवल पहले विदेशी राजाध्यक्ष है, बल्कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के बाद चीन की यात्रा पर आए पहले यूरोपीय राजाध्यक्ष भी हैं। 8 जनवरी की रात को दोनों नेताओं के बीच वार्ता हुई। 9 जनवरी को दोपहर बाद शी चिनफिंग और मैक्रोन ने औपचारिक वार्ता की। उन्होंने एक स्वर में माना कि मित्रवत परंपरा के अनुसार घनिष्ट और स्थाई चीन-फ्रांस सर्वांगीण रणनीतिक साझेदार सबंधं को स्थिर रूप से आगे बढ़ाया जाएगा।

शी चिनफिंग ने कहा कि नए काल में चीन-फ्रांस संबंध को और अच्छे और तेज़ विकास को आगे बढ़ाने के लिए दोनों पक्षों के बीच घनिष्ठ और गहरे संपर्क व आदान प्रदान किया जाना जरूरी है। एक दूसरे के मूल हितों वालों महत्वपूर्ण चिंताओं का ख्याल रखते हुए मतभेदों का अच्छी तरह निपटारा किया जाए, ताकि चीन-फ्रांस संबंध हमेशा सही रास्ते पर कदम ब कदम विकसित हो सके। दोनों पक्षों को परमाणु ऊर्जा, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी आदि पारंपरिक क्षेत्रों में रणनीतिक सहयोग गहराने के साथ ही सहयोग के नए दायरे का विकास करना चाहिए। कृषि खाद्य पदार्थ, चिकित्सा और स्वास्थ्य, शहरी अनवरत विकास, हरित निर्माण, बैंकिंग आदि नवोदित क्षेत्रों के सहयोग में गति दी जाने के साथ-साथ डिजिटल अर्थतंत्र, कृत्रिम बुद्धि, प्रगतिशील विनिर्माण उद्योग आदि क्षेत्रों में एक दूसरे का पूरक बनाया जाए। “बेल्ट एंड रोड”के ढांचे में वास्तविक सहयोग विकास किया जाए, ताकि एशिया और यूरोप की समान समृद्धि मज़बूत की जा सके।

मैक्रोन ने कहा कि यह वर्ष 2018 में न केवल उनकी पहली विदेश यात्रा है, बल्कि पहली एशिया यात्रा भी है। सीपीसी 19वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के बाद चीन की यात्रा पर आए पहले यूरोपीय राजाध्यक्ष के नाते वे खुश हैं। उनकी यात्रा से एक तरफ़ फ्रांस और चीन के बीच ऐतिहासिक संबंध की शक्ति दिखाई दे रही है, दूसरी तरफ़ फ्रांस-चीन संबंध दोनों पक्षों के लिए महत्व भी जाहिर हुआ। फ्रांस“बेल्ट एंड रोड”के ढांचे में फ्रांस-चीन सहयोग पर महत्व देता है और इसकी रणनीतिक अर्थ को भी मानता है। उन्हें आशा है कि दोनों पक्षों के बीच उच्च और विभिन्न स्तरीय घनिष्ठ संपर्क व बातचीत स्थापित की जाएगी। द्विपक्षीय आर्थिक संबंध, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, परमाणु ऊर्जा आदि अहम क्षेत्रों में सहयोग को मज़बूत करने के साथ-साथ शैक्षिक व सांस्कृतिक आदान प्रदान को भी आगे बढ़ाया जाएगा। फ्रांस यूरोप-चीन संबंध के लगातार विकास को आगे बढ़ाने को तैयार है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी