श्रीलंका और चीन देंड्रो विद्युत संयंत्र का निर्माण करेंगे

2018-01-20 15:32:00

श्रीलंका और चीन ने शुक्रवार को देश के दक्षिणी क्षेत्र मोनिरागला में श्रीलंका के सबसे बड़े देंड्रो विद्युत संयंत्र के निर्माण के लिए एक संयुक्त उद्यम करार पर हस्ताक्षर किए।

विद्युत संयंत्र देश की राष्ट्रीय ऊर्जा ग्रिड में प्रति वर्ष 70,000 मेगावाट अक्षय ऊर्जा का उत्पादन करेगा।

बीजिंग फुल डायमेंशन पावर टेक कंपनी लिमिटेड, नानजिंग टर्बाइन और इलेक्ट्रिक मशीनरी ग्रुप कंपनी लिमिटेड और श्रीलंका के आईएमएस होल्डिंग्स के बीच संयुक्त उद्यम पर हस्ताक्षर किए गए।

आईएमएस होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड के चेयरमैन, जिनावर धर्मवर्धन ने हस्ताक्षर समारोह में बोलते हुए कहा कि देंड्रो पावर सतत रूप से विकसित बायोमास (ईंधन की लकड़ी) से बिजली का उत्पादन करता है और इस परियोजना में ईंधन का उत्पादन ग्लिकिसिडिया सेपियम पेड़ की लकड़ी से किया जाएगा।

धर्मवर्धन ने कहा कि सूखे-प्रवण मोनिरागला जिले के सैकड़ों किसानों को इस परियोजना से फायदा होगा क्योंकि बिजली संयंत्र के परिणामस्वरूप ग्लिरिसिडिया सेपियम की लकड़ी की आपूर्ति करने वाले किसान प्रति वर्ष 3.2 मिलियन अमरीकी डॉलर कमाएंगे।

विद्युत संयंत्र में टर्बाइन चलाने के लिए सौर ऊर्जा के बजाय ग्लिरिसिडिया सेपियम की लकड़ी को चुनने के कारणों के बारे में बताते हुए धर्मवर्धन ने कहा कि कंपनी का प्राथमिक मिशन देश के सूखा-प्रवण क्षेत्र में किसानों को आर्थिक रूप से सुरक्षित बनाना है।

(अखिल पाराशर)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी