सुप्रीम कोर्ट ने किया कावेरी जल का नया बंटवारा

2018-02-16 17:32:04

16 फरवरी को भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने लंबित कावेरी जल बंटवारे पर अपना फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने तमिल नाडू को अबतक मिल रहे पानी की मात्रा को घटा दिया है, वहीं कर्नाटक को मिलने वाले पानी की मात्रा को कोर्ट ने बढ़ा दिया है। साथ ही कोर्ट ने केरल और पुडुचेरी को मिलने वाले पानी में कोई बदलाव नहीं किया है।

765 किलोमीटर लंबी कावेरी नदी दक्षिण भारत की जीवन रेखा मानी जाती है। कावेरी नदी के पानी को लेकर दक्षिण के दो राज्यों कर्नाटक और तमिल नाडू में लंबे समय से तनातनी चली आ रही है। दोनों ही राज्य कावेरी नदी के पानी पर अपना बड़ा हक जताते आ रहे हैं।

नए फैसले के मुताबिक अब कर्नाटक तमिल नाडू को 177.25 हज़ार मिलियन क्यूबिक फीट पानी छोड़ेगा। ये सीमा पहले 192 हज़ार मिलियन क्यूबिक फीट थी।

नई व्यवस्था के तहत कर्टनाटक को 284.75 tmcft पानी मिलेगा इसमें राजधानी बंगलुरु को मिलने वाला 4.75 tmcft पानी भी जुड़ा हुआ है। तमिल नाडू को अब 404.25 tmcft, केरल को 30 tmcft, और पुडुचेरी को 7 tmcft पानी मिलेगा।

वहीं तीन पीठ वाले जजों ने कहा कि नदियां राष्ट्रीय संपदा हैं और इसपर कोई विशेष राज्य अपना पूरा हक नहीं जता सकता। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद अब तमिल नाडू में राजनीतिक पार्टियों के जन आंदोलन शुरु करने की आशंका बढ़ गई है।

पंकज श्रीवास्त्व

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी