खतरों का एकजुट होकर सामना करे अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय : गुटेरेस

2018-02-17 17:03:04

इस समय पूरी दुनिया कोरियाई प्रायद्वीप के नाभिकीय सवाल, मध्य-पूर्व संकट और नेटवर्क सुरक्षा खतरे जैसी समस्याओं का सामना कर रही है। अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होकर इन समस्याओं कै सामना करना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने 16 फरवरी को दक्षिण जर्मनी के म्यूनिख में यह बात कही।

54वां म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन 16 फरवरी को उद्घाटित हुआ। गुटेरेस ने सम्मेलन में भाषण देते हुए कहा कि उत्तर कोरिया द्वारा नाभिकीय हथियारों का विकास करना संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के संबंधित प्रस्तावों का स्पष्ट उल्लंघन है। अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय को इसे प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता है और कूटनीतिक तरीके से इस सवाल का समाधान करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अभी तक मध्य-पूर्व संकट का समाधान नहीं हो पाया है। फिलीस्तीन-इजराइल शांतिपूर्ण प्रक्रिया कठिनाईयों में फंसी हुई है, सीरिया में नया संकट मौजूद है और खाड़ी देशों के बीच मतभेद दूर नहीं हो सकता। गुटेरेस ने कहा कि मध्य-पूर्व स्थिति के बिगड़ने का बुरा असर पड़ने की आशंका है। बड़े अन्तर्राष्ट्रीय और क्षेत्रीय देशों को मतभेद दूर कर समाधान ढूंढ़ना पड़ता है।

नेटवर्क सुरक्षा खतरे पर गुटेरेस ने कहा कि सरकार, निजी विभाग, सामाजिक संगठन और विद्वानों को वार्ता के जरिए नेटवर्क सुरक्षा बनाए रखने का बुनियादी नियम बनाना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र संघ की इसके लिए मंच तैयार करने की इच्छा है।

इसके अलावा, गुटेरेस ने जलवायु परिवर्तन, असमानता और शरणार्थी जैसे मुद्दों पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि वैश्विक समस्या का निपटारा वैश्विक सहयोग के जरिए ही किया जा सकता है। विभिन्न देशों को एकजुट होकर इन समस्याओं का समाधान करना चाहिए।

गौरतलब है कि वर्तमान म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन 16 से 18 फरवरी तक आयोजित हो रहा है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस, नाटो के महासचिव जेन्स स्टोलबेनबर्ग और यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष ज्यां-क्लाउड जुनकर समेत करीब 500 लोग इसमें भाग ले रहे हैं।

(ललिता)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी