जोखांग मठ के अग्निकांड का कारण मानवीय कारक नहीं

2018-02-22 16:33:03

ल्हासा के जोखांग मठ में 17 फ़रवरी को एक अग्निकांड हुआ, जिसमें कोई हताहत नहीं हुआ। और शक्यामुनी की प्रतिमा भी सुरक्षित है। सार्वजनिक सुरक्षा विभाग की आरंभिक जांच से पता चला कि अग्निकांड में मानव कारक नहीं है।

17 फ़रवरी की रात को छह बजकर 40 मिनट पर ल्हासा के जोखांग मठ में पीछे की इमारत की दूसरी मंजिल पर आग लगी, जहां शक्यामुनी की प्रतिमा रखी गयी है। आग बुझाने के बाद 18 फ़रवरी को जोखांग मठ फिर एक बार खोल दिया गया।

सांस्कृतिक अवशेष विशेषज्ञों से गठित सांस्कृतिक अवशेष संरक्षण दल ने मठ में सांस्कृतिक अवशेषों की जांच-पड़ताल की। तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के सांस्कृतिक अवशेष ब्यूरो के संबंधित प्रधान के अनुसार मठ में रखी हुई शख्यामुनी की प्रतिमा सुरक्षित है। इमारत के मुख्य भाग भी सुरक्षित हैं। और पंजीकृत 6510 सांस्कृतिक अवशेषों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी