दक्षिण एशियाई बृहद गलियारे का निर्माण चीन में एक गर्म मुद्दा

2018-03-16 15:03:01

वर्ष 2015 में चीनी केंद्रीय सरकार ने तिब्बत को दक्षिण एशिया के प्रति देश के खुलेपन का महत्वपूर्ण रास्ता निर्धारित किया ।इस के साथ तिब्बत का चीन के एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में अहम स्थान भी है ।पेइचिंग में चल रहे नेशनल पीपुल्स कांग्रेस और चीनी जन राजनीतिक सलाहकार सम्मेलन की राष्ट्रीय समिति(सीपीपीसीसी) के सम्मेलनों के दौरान दक्षिण एशियाई बृहद गलियारे का निर्माण एक गर्म मुद्दा बना है ।

सीपीपीसीसी सदस्य और तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की सामाजिक अकादमी के दक्षिण एशिया विभाग की उप निदेशक प्येनबालामू ने बताया कि दक्षिण एशियाई बृहद गलियारे का निर्माण दक्षिण एशिया में एक पट्टी एक मार्ग का निर्माण बढ़ाने ,तिब्बत के आर्थिक व सामाजिक विकास और तिब्बत की सुरक्षा व स्थिरता के लिए बड़ा महत्व रखता है ।उन के अनुसार इस गलियारे के लिए कुछ परियोजनाएं शुरू हुई हैं ।इधर कुछ साल तिब्बत में कुल मार्गों की लंबाई 90 हजार किलोमीटर से अधिक है और देशी विदेशी एयरलाइनों की संख्या 79 तक जा पहुंची है ।चीन नेपाल सीमा पार आर्थिक सहयोग जोन का निर्माण आरंभ हुआ है ।

सीपीपीसीसी सदस्य और चीनी रेलवे कंपनी के पूर्व उप महाप्रबंधक लू छुनफांग ने बताया कि काठमांडू- तिब्बत रेलवे निर्माण अब अध्ययन दौर में है ।अगर इस रेलवे का निर्माण पूरा हुआ ,तो चीन और नेपाल खासकर नेपाल के आर्थिक व सामाजिक विकास पर गहरा प्रभाव पड़ेगा ।चीन नेपाल व्यापार और पर्यटन उद्योग को बड़ा बढावा मिलेगा ।

चीन स्थित नेपाली राजदूत लीलमणि पौड्याल ने सीआरआई को दिये एक विशेष साक्षात्कार में कहा कि नेपाल समेत पड़ोसी देशों को चीन के विकास खासकर एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में लाभ मिलेगा ।नेपाल के बुनियादी संस्थापनों में बड़ा सुधार आएगा ।(वेइतुंग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी