मुंबई में चीनी बौद्ध धर्म सांस्कृतिक विरासत फोटो प्रदर्शनी आयोजित

2018-03-18 15:03:00

चीनी बौद्ध धर्म सांस्कृतिक विरासत फोटो प्रदर्शनी 16 मार्च को मुंबई में उद्घाटित हुई । श्याओलिन मंदिर और लिंगयिंग मंदिर सहित चीनी मशहूर मंदिरों का वर्णन करने वाली श्रेष्ठ रचनाएं चीन में बौद्ध धर्म के इतिहास और विकास को प्रतिबिंबित करती हैं ,जो बड़ी संख्या वाले दर्शकों में आकर्षित करती हैं ।

पाँच दिवसीय प्रदर्शनी चीनी सांस्कृतिक और कलात्मक जगत सयुंक्त असोशिएशन और चीनी बौद्ध धर्म संघ द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित है । प्रतिमा ,वास्तु भवन ,धार्मिक रस्म ,शिक्षा और प्राचीन सूत्रों से जुड़े कुल 80 फोटो प्रदर्शित हैं ।

चीनी बौद्ध धर्म संघ के उपमहासचिव और हांगचो लिंग यिंग मंदिर के मठाधीश शी क्वांग छुएं ने बताया कि विश्व के दो बड़े प्राचीन सभ्यता वाले देश के नाते चीन और भारत के बीच दो हजार से अधिक साल वाले मैत्रीपूर्णँ आदान प्रदान में बौद्ध धर्म की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका रही ।दर्शक यह प्रदर्शनी देखकर दो देशो के बीच सांस्कृतिक वार्तालाप महसूस कर सकेंगे ।

मुंबई स्थित चीनी महावाणिज्य दूत चंग शीयुएं ने बताया कि चीन और भारत की सांस्कृतिक आवाजाही का लंबा इतिहास है ।चीनी बौद्ध धर्म के सांस्कृतिक विरासत दो देशों के सांस्कृतिक आदान प्रदान के इतिहास की मूल्यवान संपत्ति है ।

सूत्रों के अनुसार चीनी सांस्कृतिक और कलात्मक जगत के संयुक्त असोसिएशन और आईसीसीआर ने वर्ष 2016 में सहयोग मेमोरंडम संपन्न किया ,जिस ने दो पक्षों के बीच नियमित आदान प्रदान का आधार बनाया । (वेइतुंग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी