यूरोपीय देशों को अमेरिका के एकतरफ़ावाद से लाभ नहीं मिलेगा

2018-04-02 16:02:08

हाल ही में चीन-अमेरिका के व्यापारिक संघर्ष पर लगातार विस्तृत ध्यान केंद्रित हुआ है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कुछ समय पहले ज्ञापन पर हस्ताक्षर करके कहा कि 301 जांच परिणाम के आधार पर लगभग 60 अरब अमेरिकी डॉलर वाले चीन से आयातित मालों पर ज्यादा टैरिफ़ लिया जाएगा। उधर यूरोपीय देशों को अंतिम समय पर इस्पात व एल्यूमीनियम का चुंगी मुफ्त मिला। हालांकि यूरोपीय देशों को हाल ही में चिंता नहीं लगती, लेकिन चीन-अमेरिका व्यापारिक संघर्ष की पृष्ठभूमि में और अमेरिका द्वारा उठाये गये सिलसिलेवार एकतरफ़ावाद व व्यापार संरक्षणवाद के कदमों के तले क्या यूरोपीय देश सचमुच आराम होंगे?चीनी आधुनिक अंतर्राष्ट्रीय संबंध के अनुसंधान प्रतिष्ठान के यूरोप विभाग के उप प्रधान वांग श्वो ने कहा कि यूरोपीय संघ एक खुला आर्थिक समुदाय है। जो विश्व बाजार पर निर्भर है। अगर अब विश्व व्यापार युद्ध शुरू हुआ, और विश्व अर्थव्यवस्था दुष्चक्र में फंसी। तो मेरे ख्याल से यूरोप को सबसे पहले प्रभाव मिलेगा। जो यूरोप के आर्थिक पुनरुत्थान के लिये बहुत बड़ा झटका होगा। यूरोपीय संघ की दृष्टि से वह अमेरिका के व्यापारिक युद्ध करने को नहीं चाहता। दूसरे, मुद्रा की दृष्टि से देखा जाए, तो अमेरिका की मुद्रा नीति का समायोजन केवल अमेरिका की अंदरूनी स्थिति के आधार पर किया जाता है। इसलिये यूरोपीय केंद्रीय बैंक लगातार अमेरिका की इस स्वार्थी नीति पर आरोप लगाती है।

चंद्रिमा

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी