चीन-भारत नेताओं के बीच मुलाकातः समावेशी विकास की आवश्यकता

2018-04-27 19:03:07

चीन और भारत दोनों महा देश हैं, दोनों के बीच आदान-प्रदान पर हमेशा पूरी दुनिया की नज़र रहती है। आज भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के वुहान शहर में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ अनौपचारिक मुलाकात की। पूरी दुनिया की मीडिया इस पर ध्यान दे रहा है।

विश्व की स्थिति बदल रही है, वर्तमान में अमेरिका ने चीन को परेशान कर व्यापारिक विवाद पैदा किया। इस संरक्षणवादी व्यवहार से ऐतिहासिक विकास के नियमों का उल्लंघन किया गया है। इस का विरोध करने पर राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच आम सहमति हासिल हुई है।

इस बार मोदी की चीन यात्रा उनकी चौथी चीन यात्रा है। गत 50 के दशक में चीन और भारत के बीच संबंध अच्छी तरह से विकसित हुए। लेकिन इसके बाद दोनों देशों के बीच संबंध इतने अच्छे नहीं रहे। मोदी की चौथी चीन यात्रा से यह साबित होता है कि चीन और भारत के बीच संबंधों का विकास बहुत जरूरी है। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि यह अनौपचारिक मुलाकात दोनों देशों के लिए महत्वपूर्ण है। हालांकि एक बार की मुलाकात से दोनों देशों के बीच सभी समस्याओं को हल नहीं किया जा सकता है। लेकिन मुलाकात के जरिए दोनों के बीच समस्याओं को हल करने के लिए नये तरीके ढूंढे जा सकते हैं।

वर्तमान में भारतीय मीडिया में चीन-भारत संबंध सुधारने के बारे में रिपोर्ट जारी हो रही हैं। भारतीय रक्षा मंत्री ने भी सीमा क्षेत्र में चीनी सैनिकों के साथ मैत्रीपूर्ण बातचीत की। विश्वास है कि इन स्थितियों में चीन और भारत के बीच संबंधों का जरूर समावेशी विकास होगा।

(मीरा)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी