भारत का वायु प्रदूषण एक गंभीर चिंता

2018-05-04 11:03:04

विश्व स्वास्थ्य संगठन के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक वैश्विक वायु प्रदूषण के उच्चतम स्तर वाले 15 शहरों में से अधिकांश शहर भारत के हैं। यह भारत के लिए गहन चिंता का विषय है। विशेषज्ञों ने वायु प्रदूषण से निपटने के लिए अधिक प्रयास करने की अपील की।

डब्ल्यूएचओ द्वारा जारी नवीनतम 2016 वार्षिक वायु प्रदूषण डेटा से पता चलता है कि अगर हवा में पीएम 2.5 की एकाग्रता से क्रमबद्ध किया जाए, तो दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर कानपुर है। कणों की वार्षिक औसत एकाग्रता प्रति घन मीटर 173 माइक्रोग्राम है, जबकि राजधानी नई दिल्ली 143 माइक्रोग्राम से छठे स्थान पर है।

पर्यावरण विशेषज्ञों का मानना है कि भारत में गंभीर वायु प्रदूषण के प्रमुख कारण हैं: यातायात जाम, डीजल वाहन, निर्माण अपशिष्ट, डीजल जनरेटर इत्यादि।

भारत के पर्यावरण मंत्रालय ने कहा कि वायु प्रदूषण के उपचार को मजबूत करने के उपाय उठाये गये हैं। वायु गुणवत्ता निगरानी डेटा से पता चलता है कि 2017 के बाद से भारतीय शहरों में समग्र वायु गुणवत्ता में सुधार हो रहा है।

(अंजली)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी