चीन और अमेरिका को न्यायपूर्ण और रचनात्मक तरीकों से प्रतिस्पर्द्धा करनी चाहिए

2018-05-13 15:03:03

चीन और अमेरिका के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 40वीं वर्षगांठ के आगमन पर अमेरिका स्थित चीनी राजदूत छ्वेई थ्येनखाई और पूर्व अमेरिकी रक्षा मंत्री विलियम एस कोहन ने 11 मई को वॉशिंगटन रणनीतिक और अंतर्राष्ट्रीय मामलों के अनुसंधान केंद्र में बातचीत की और हालिया चीन-अमेरिकी संबंधों के नये परिवर्तन पर अपने विचार प्रकट किये। दोनों ने विभिन्न दृष्टिकोण से इस विचार पर प्रकाश डाला कि चीन और अमेरिका को खुद के विकास पर ध्यान देकर न्यायपूर्ण और रचनात्मक तरीकों से प्रतिस्पर्द्धा करनी चाहिए।

छ्वेई थ्येनखाई ने कहा कि चीनी निर्माण 2025 अमेरिकी उद्यमों के प्रतिस्पर्द्धा करने के मौके को नहीं छीन रहा है। विज्ञान और तकनीक क्षेत्र सभी लोगों के लिए एक खुला क्षेत्र है। चीन और अमेरिका दोनों बड़े देशों के बीच प्रतिस्पर्द्धा वास्तव में खुद के प्रशासन पर केंद्रित है, जबकि अंतर्राष्ट्रीय सवालों पर केंद्रित नहीं है। यदि दोनों देश अपने देश का अच्छी तरह प्रशासन चलाएं, तो कोई भी दोनों को धमकी नहीं दे सकता। साथ ही चीन और अमेरिका एक दूसरे से सबक लेने और सफलता या विफलता के अनुभव से सीख भी सकते हैं। न्यायपूर्ण प्रतिस्पर्द्धा इसी तरह की होती है।

(श्याओयांग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी